यहां खनन माफिया का जबरदस्त दबदबा, पुलिस और प्रशासन रोक पाने में नाकाम

 जिले में नदियों से रेत के कारोबार में खनन माफिया किस तरह से पुलिस और प्रशासन पर हावी है.

यहां खनन माफिया का जबरदस्त दबदबा, पुलिस और प्रशासन रोक पाने में नाकाम
प्रतीकात्मक तस्वीर

भीलवाड़ा: जिले में नदियों से रेत के कारोबार में खनन माफिया किस तरह से पुलिस और प्रशासन पर हावी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आए दिन अवैध रेत के वाहनों से आम जनता की जान जा रही है. पुलिस और प्रशासन इनको रोक पाने में नाकाम है. 

मामला माण्डल थाना इलाके के आरजिया गांव का है, जहां पर अवैध रेत के ट्रेक्टर ने एक बाईक को टक्कर मार दी. घटना में एक 17 वर्षीय छात्र की मौत हो गई. भीलवाड़ा में गत दिनों बजरी माफियाओं ने पहले एसडीएम के चालक की जान ली. फिर नायब तहसीलदार व टीम को कुचलने का प्रयास किया और आज बाइक सवार एक किशोर को कुचल दिया. 

ये भी पढ़ें: सीएम गहलोत का बड़ा बयान, कांग्रेस विधायकों को दिया गया 25-25 करोड़ रुपये का ऑफर

मांडल थाने के सहायक उप निरीक्षक चिराग खां कायमखानी ने बताया कि मूलतया नौगावां हाल अंसल सोसायटी निवासी त्रिलोक (17) पुत्र भैंरूसिंह राजपूत गुरुवार सुबह बाइक पर पानी का केन लेकर घर की और जा रहा था. इस बीच, हाइवे से आरजिया में जाने वाले मार्ग पर भीलों का खेड़ा के पास अचानक गली से निकल कर आई बजरी भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली के चालक ने कट से निकलते हुये त्रिलोक की बाइक को चपेट में ले लिया. हादसे में त्रिलोक गंभीर रूप से घायल हो गया. 

वहीं, चालक बजरी से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली को छोड़कर भाग छूटा. उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां त्रिलोक ने दम तोड़ दिया. एमजीएच चौकी स्टॉफ ने शव को मोर्चरी में सुरक्षित रखवाते हुये मांडल पुलिस को सूचना दी है.  

आपको बता दें कि गत दिनों बजरी माफियाओं ने जहाजपुर क्षेत्र में एसडीएम के चालक कुलदीप शर्मा की हत्या कर दी थी. इसके अलावा मांडलगढ़ इलाके में नायब तहसीलदार व उनकी टीम को बजरी माफियाओं ने ट्रैक्टर-ट्रॉली चढ़ाकर मारने का प्रयास किया था. जिले में लगातार बढ़ रही इस तरह की घटनाओं के बावजूद बजरी माफियाओं के खिलाफ कोई पुख्ता कार्रवाई अब तक शुरू नहीं हो पाई है. 

वहीं, बजरी भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली से कुचले किशोर की मौत के बाद अस्पताल के वार्ड में हंगामा खड़ा हो गया. किशोर के साथ आये लोगों ने समय रहते चिकित्सक के नहीं आने का आरोप लगाते हुये यह हंगामा खड़ा कर दिया. जब इस मामले की जानकारी जिला कलेक्टर राजेंद्र भट्ट को मिली तो उन्होंने पुलिस अधीक्षक हरेंद्र महावर से बातचीत कर मामले में तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिये हैं.

 

ये भी पढ़ें: राज्यसभा चुनाव: विधायकों की खरीद-फरोख्त रोकने के लिए कांग्रेस चलेगी यह पैंतरा...