close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बीकानेर: स्वाइन फ्लू के खिलाफ मुहिम में उतरी बीडी कल्ला की पत्नी, पिलाया काढ़ा

इस कड़ी में कैबिनेट मंत्री बीडी कल्ला अपनी पत्नी शिव कुमारी के साथ रविवार को लक्ष्मीनाथ मन्दिर पहुंचे. 

बीकानेर: स्वाइन फ्लू के खिलाफ मुहिम में उतरी बीडी कल्ला की पत्नी, पिलाया काढ़ा
राज्य में रविवार तक स्वाइन फ्लू से 72 मौत हो चुकी है.

बीकानेर: प्रदेश में बढ़ रहे स्वाइन फ्लू के बाद गहलोत सरकार के मंत्री के साथ साथ अब मंत्री के परिवार के सदस्य भी इसको खत्म करने की मुहिम में उतर चुके है. इस दौरान राज्य के आम लोगों को स्वाइन फ्लू से बचने के उपाय बताने के साथ काढ़ा पिलाकर जागरूक कर रहे है . 

इस कड़ी में कैबिनेट मंत्री बीडी कल्ला अपनी पत्नी शिव कुमारी के साथ रविवार को लक्ष्मीनाथ मन्दिर पहुंचे. इस दौरान कल्ला की पत्नी ने वहां मौजूद लोगों को स्वाइन फ्लू के प्रकोप को कम करने को लेकर आयुर्वेदिक काढ़ा पिलाया. इसके अलावा इस महामारी से बचने के लिए लोगो को इससे संबंधित जानकारी भी दी.

कार्यक्रम के बाद लक्ष्मीनाथ मन्दिर के दर्शन करने के बाद कल्ला ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उन्होंने भगवान से प्रदेश में खुशहाली की कामना की है. 

आपको बता दें कि, राज्य में रविवार तक स्वाइन फ्लू से अब तक 72 मौत हो चुकी है. महामारी की तरह फैले स्वाइन फ्लू का 27 दिन के अंदर 1856 पॉजिटिव मामले सामने आए है. अब तक जोधपुर जिले में इस महामारी में सबसे अधिक 23 मौत हो चुकी है.बताया जा रहा है कि यहां पर एक दिन में इसके 69 पॉजिटिव केस सामने आया था. 

क्या है स्वाइन फ्लू?

स्वाइन फ्लू एक तीव्र संक्रामक रोग है, जो एक विशिष्ट प्रकार के इनफ्लुएंजा वाइरस (एच-1 एन-1) के द्वारा होता है. इसमें मरीज को जुकाम, गले में खराश, सर्दी खांसी, बुखार, सिरदर्द, शरीर दर्द, थकान, ठंड लगना, पेटदर्द व उल्टी दस्त की शिकायत रहती है. यह रोग बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को तीव्रता से प्रभावित करता है. यह खांसने, छींकने व छूने से फैलता है. इसके साथ ही संक्रमित होने से 5-7 दिन में यह लक्षण दिखाई देना शुरू हो जाते हैं. 

मरीज भी रखे सावधानी 

स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखाई देने के बाद मरीज सबसे पहले चिकित्सकीय परामर्श लें. इसके साथ ही खांसी, जुकाम व बुखार के रोगी से दूर रहें. साफ-सफाई का विशेष रूप से ध्यान रखें. खांसते या छींकते समय मुंह ढंक दें. सर्दी जुकाम होने की स्थिति में भीड़-भाड़ से बचें.