जयपुर: पिंकीसिटी प्रेस क्लब ने आयोजित की चाय पर चर्चा कार्यक्रम, खेल मंत्री अशोक चांदना रहे मौजूद

कार्यक्रम के समापन के दौरान पिंकसिटी प्रेस क्लब अध्यक्ष अभय जोशी ने खेल मंत्री अशोक चांदना का स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया.

जयपुर: पिंकीसिटी प्रेस क्लब ने आयोजित की चाय पर चर्चा कार्यक्रम, खेल मंत्री अशोक चांदना रहे मौजूद
उन्होंने कार्ययोजना तैयार करने की बात कही. (फोटो साभार: facebook)

जयपुर: पिंकीसिटी प्रेस क्लब की ओर से मंगलवार को चाय पर चर्चा कार्यक्रम में खेल मंत्री अशोक चांदना मीडिया से रूबरू हुए. इस दौरान चांदना ने प्रदेश में खेल के विकास के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों को मीडिया को बताई.

दोपहर में पिंकसिटी प्रेस क्लब पहुंचे प्रदेश के खेल मंत्री ने सबसे पहले प्रेस क्लब में स्थित मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया. उसके बाद यहां मीडिया के साथ चाय पर चर्चा कार्यक्रम में हिस्सा लिया.

उन्होंने कहा, ''बीते कुछ सालों से प्रदेश में खेलों का एक तरह से विकास रुका हुआ है. जिसको आगे बढ़ाने के लिए प्रदेश सरकार प्रतिबद्ध है. जिसके लिए खुद सीएम गहलोत गंभीर है. प्रदेश में खेलों को विकास के लिए एक पूरी कार्य योजना तैयार कर ली गई है.''

उन्होंने बताया कि पहले से रुके हुए कार्यों को पूरा करवाने के बाद नये कार्यों को शुरू किया जाएगा. इसके साथ ही जिन खिलाड़ियों की पुरस्कार राशि वितरण होने से अभी तक रुकी हुई है उसका वितरण भी जल्द ही किया जाएगा. 

कांग्रेस में चल रही गुटबाजी और आपसी झगड़े के सवाल पर खेल मंत्री अशोक चांदना ने कहा कि मुख्यमंत्री और उप- मुख्यमंत्री बहुत ही समझदार हैं और राष्ट्रीय अध्यक्ष को भी उन दोनों पर काफी भरोसा है.

साथ ही कांग्रेस में किसी भी गुटबाजी से इनकार करते हुए उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को ज्यादा नहीं उछालना चाहिए.  उन्होंने कहा, ''मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री पर किसी भी राय के काबिल नहीं हूं. इसके साथ ही गुटबाजी के सवाल पर जवाब देना मेरी समझ से परे है.''

कार्यक्रम के दौरान खेल मंत्री अशोक चांदना ने जयपुर के पत्रकारों के लिए एक बड़ी घोषणा की. उन्होंने एसएमएस स्टेडियम के स्विमिंग पुल में पत्रकारों के लिए एक घंटे का समय रखने की बात कही है. जिससे पत्रकार अपने स्वास्थ्य के प्रति सगज हो सकें.

कार्यक्रम के समापन के दौरान पिंकसिटी प्रेस क्लब अध्यक्ष अभय जोशी ने खेल मंत्री अशोक चांदना को स्मृति चिन्ह देकर सम्मान किया.