बैठक में बोले स्वायत्त शासन मंत्री, कोरोना संक्रमण रोकने के प्रयासों में नहीं रहे कमी

स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश प्रदान किये.

बैठक में बोले स्वायत्त शासन मंत्री, कोरोना संक्रमण रोकने के प्रयासों में नहीं रहे कमी
स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल

हिमांशु मित्तल, कोटा: स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने कोरोना (Coronavirus) संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा कर अधिकारियों को आवश्यक निर्देश प्रदान किये. जीरो मोबेलिटी क्षेत्रों में निरन्तर नमूनों की जांच कर नेगेटिव पाये जाने पर प्रोटोकॉल के तहत समय पर प्रतिबन्ध हटाने तथा आम नागरिकों को आवश्यक सेवाओं की पहुंच बनाये रखने के निर्देश दिये.

स्वायत्त शासन मंत्री ने कहा कि नये क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव केस आना चिंताजनक है, सभी विभाग आपसी समन्यवय से लॉक-डाउन के प्रावधानों की पालना समय पर करवाना सुनिश्चित करें. उन्होंने लोगों को जागरूक करने तथा कोरोना से बचाव के लिए लागू प्रतिबन्धों की पालना अनिवार्य करवाने के निर्देश दिये. कर्फ्यू ग्रस्त क्षेत्रों में आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति जरूरतमंद नागरिकों को पारदर्शिता के साथ किया जावे. जरूरतमंद कोई भी नागरिक सरकारी सहायता से वंचित नहीं रहे.
 
मेडिकल कॉलेज में कोरोना पॉजेटिव के इलाज में लगातार मिल रही सफलता पर चिकित्सकों एवं नर्सिंग स्टाफ के कार्यो की सराहना की. उन्होंने कहा कि संसाधनों में कमी नहीं रहने दी जावेगी. कोरोना के इलाज में लगे सभी चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ, सुरक्षा में लगे जवानों को भी आवश्यक सुरक्षा उपकरण प्रदान किये जाए. शहर में सब्जीमंडी को अन्य विभिन्न क्षेत्रों में भी विभाजित करने के लिए स्थान चिन्हित करने के निर्देश दिये ताकि अधिक भीड़ जमा नहीं हो सके.

कर्फ्यू ग्रस्त क्षेत्रों की नियमित करें समीक्षा-
स्वायत्त शासन मंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमित पाये जाने पर संबन्धित क्षेत्रों में संनेट्राइज कर नमूने लेने को गति दी जावे जिससे संक्रमण को रोका जा सके. उन्होंने ऐसे क्षेत्रों की समीक्षा कर प्रोटोकॉल की पालना होने पर कर्फ्यू हटाने के निर्देश दिये जिससे आम नागरिकों को pareshani का सामना नहीं करना पडे़. उन्होंने कहा कि लॉक-डाउन 04 के प्रावधानों के तहत अनुमत किये गये कार्यो चालू करवाया जावे जिससे आम जीवन सामान्य हो सके. उन्होंने कर्फ्यू ग्रस्त क्षेत्रों में आवासीय क्षेत्र सामिल नहीं होने पर उसकी समीक्षा कर व्यवसायिक गतिविधियों को चालू करवाने के निर्देश दिये. 

ये भी पढ़ें: CM गहलोत पर सांसद का हमला, बोले- मजदूरों से ज्यादा, प्रियंका गांधी की खुशी की चिंता

क्यूरेंटाइन सेन्टर पर मिले सुविधाऐं-
स्वायत्त शासन मंत्री ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों के लिए बनाये गये क्यूरेंटाइन सेन्टरों पर आवश्यक सुविधाओं की कमी नहीं रहे तथा श्रमिकों को पदैल नहीं जाने दें. सरकार की मंशा के अनुरूप सभी को अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचाये. इस अवसर पर संभागीय आयुक्त कैलाश चन्द मीना, डीआईजी रविदत्त गौड़, जिला कलक्टर ओम कसेरा, पुलिस अधीक्षक गौरव यादव, आयुक्त नगर निगम वासुदेव मालावत, सचिव यूआईटी राजेन्द्रसिंह कैन, प्राचार्य मेडिकल कॉलेज डॉ. विजय सरदाना, सीएमएचओ डॉ. भूपेन्द्रसिंह तंवर, डीएसओ मोहम्मद ताहिर सहित संबन्धित अधिकारी उपस्थित रहे. 

विभिन्न संगठनों से करेंगे वार्ता-
स्वायत्त शासन मंत्री ने मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि कोटा में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए मिलकर कार्य करेंगे. उन्होंने कहा कि वे शीघ्र शहर के विभिन्न व्यापारिक संगठनों, सब्जी विक्रेताओं, कर्फ्यू ग्रस्त क्षेत्रों के प्रमुख नागरिकों से मिलकर उनकी समस्याऐं जानेंगे तथा उनका समयबद्ध निराकरण करायेंगे. उन्होंने कहा कि शहर में विकास कार्यो को पटरी पर लाना तथा आम नागरिकों को मूलभूत सुविधाओं की आपूर्ति को अब चेलेंज के रूप में लेकर कार्य करेंगे. उन्होंने बताया कि वर्तमान में कोरोना जांच की गति बढ़ने से जल्दी सफलता मिलेगी तथा पॉजिटिव रोगियों को समय पर इलाज की सुविधा मिल सकेगी.