close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: विधानसभा में घिरे मंत्री, नहीं दे पाए गोगामेड़ी मेले से जुड़े सवाल के जवाब

विधानसभा में कई बार मंत्री आधी अधूरी तैयारी के साथ आने के कारण विश्वेंद्र सिंह की कई सवालों के जवाब देने के दौरान असहज स्थिति हो गई.

राजस्थान: विधानसभा में घिरे मंत्री, नहीं दे पाए गोगामेड़ी मेले से जुड़े सवाल के जवाब
मंत्री विश्वेंद्रसिंह ने अलग से जानकारी उपलब्ध करवाने की बात सदन में कही.

जयपुर: विधानसभा में कई बार मंत्री आधी अधूरी तैयारी के साथ भी आते है. जिस कारण उनकी कई सवालों के जवाब देने के दौरान असहज स्थिति हो जाती हैं. ऐसा ही वाकया पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह के साथ हुआ. विधानसभा में विधायक बलवान पूनिया ने पूछा की गोगामेड़ी मेले में रेवेन्यू ड्रॉप क्यों हो गई. इसका मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के पास तुरंत जवाब नहीं था. उन्होंने कुछ देर में जवाब उपलब्ध करवाने की बात कही. 

गबन की जांच के लिए कमेटी गठित 
पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा है कि पिछले वर्ष हनुमानगढ जिले के गोगा मेड़ी में हुए 1 करोड़ 24 लाख रूपए के गबन के मामले में संबंधित के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है एवं कई अधिकारियों को चार्जशीट एवं निलंबन की कार्यवाही की गई है. इस मामले में एक जांच कमेटी बनाई गई है एवं भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. 

पर्यटन मंत्री ने बताया कि मामला 26 नवम्बर 2018 को हुआ था. इसमें असिस्टेंट कमिश्नर एवं एसडीओ भादरा को चार्जशीट दी गई है. कैशियर एवं लेखाधिकारी को निलंबित कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि अभी सचिव एवं आयुक्त द्वारा तीर्थ स्थल का निरीक्षण किया गया है.

सवालों के घेरे में मंत्री 
गोगामेड़ी मेले से होने वाली आय में से श्रद्धालुओं की सुविधा हेतु बेरिकेडिंग, विद्युत व्यवस्था, सफाई व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, टेंट व्यवस्था आदि पर खर्च होता हैं. शेष का ड्राफ्ट बनाकर प्रधान कार्यालय भेजवाया जाता है. गोगामेड़ी में सरकारी सहयोग का भी ब्योरा उन्होंने सदन में रखा. हालांकि मेले में राजस्व कम होने के पूरक प्रश्न का जवाब कुछ देर तक नहीं देने पर आसन ने हस्तक्षेप कर राहत दी. मंत्री विश्वेंद्रसिंह ने विधायक को अलग से जानकारी उपलब्ध करवाने की बात सदन में कहीं.