राजस्थान के इन जिलों में 15 दिनों तक मध्यम से तेज बारिश की संभावना: IMD

मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटों में दक्षिण और पूर्वी राजस्थान में मानसून के सक्रिय होने की संभावना है. इस दौरान करीब डेढ़ दर्जन जिलों में 65 से 115 एमएम तक बारिश होने की चेतावनी मौसम विभाग ने जारी की है.

राजस्थान के इन जिलों में 15 दिनों तक मध्यम से तेज बारिश की संभावना: IMD
अगले 24 घंटों में दक्षिण और पूर्वी राजस्थान में मानसून के सक्रिय होने की संभावना है.

जयपुर: राजस्थान में इस साल सावन (Savan) के महीने में भीषण गर्मी और उमस ने लोगों को जमकर सताया है. पश्चिमी विक्षोभ के चलते कमजोर बने मानसून (Monsoon) के कारण इस बार सावन के महीने में प्रदेश में महज 195.67 एमएम बारिश दर्ज की गई,जो औसत से माइनस 31.1 एमएम कम रही. हालांकि, सावन के अंतिम दिन और बीते 24 घंटों में प्रदेश के अधिकतर जिलों में हुई अच्छी बारिश ने लोगों को भीषण गर्मी और उमस से राहत दिलाई है.

दरअसल, 24 जून को प्रदेश में मानसून ने दस्तक दी थी. लेकिन मानसून इस साल अधिकतर समय कमजोर ही बना रहा. मौसम विभाग (Metrological Department) के अनुसार, अब तक प्रदेश में करीब 284.27 एमएम बारिश दर्ज होनी थी, लेकिन कमजोर मानसून के चलते प्रदेश में अब तक महज 195.67 एमएम बारिश दर्ज की गई, जो औसत से माइनस 31.1 एमएम कम रही.

मौसम विभाग के अनुसार, अगले 24 घंटों में दक्षिण और पूर्वी राजस्थान में मानसून के सक्रिय होने की संभावना है. इस दौरान करीब डेढ़ दर्जन जिलों में 65 से 115 एमएम तक बारिश होने की चेतावनी मौसम विभाग ने जारी की है.

मौसम विभाग ने 19 जिलों में अलर्ट जारी किया है. इसमें अलवर, भरतपुर, दौसा, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, बूंदी, कोटा, बारां, झालावाड़, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, उदयपुर, डूंगरपुर, बांसवाड़ा, जयपुर, टोंक और अजमेर में अलर्ट जारी किया.

बहरहाल, पिछले तीन सालों की बात की जाए तो इस दौरान सावन का महीने में मानसून कमजोर रहा है, तो वहीं, भादो के महीने में जमकर बारिश ने लोगों को भिगोया है. ऐसे में मौसम विभाग की अगर मानी जाए तो, अगले 15 दिनों तक प्रदेश के अधिकतर जिलों में मध्यम से तेज बारिश की संभावना है.