चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में, मोदी सरकार जनता से छुपा रही सच: CM गहलोत

सीएम ने कहा कि, शी जिनपिंग के साथ पीएम मोदी ने झूला-झूला था, यह देश को याद है. उस समय भी बॉर्डर पर तनाव था. आज चीन की जो नीति है, उसका पीएम मोदी के पास कोई जवाब नहीं है.

चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में, मोदी सरकार जनता से छुपा रही सच: CM गहलोत
चीन को लेकर सीएम ने कहा कि, चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में है.

जयपुर: चीन बॉर्डर पर तनाव के हालातों के बीच रविवार को देश में कांग्रेस के सभी मुख्यमंत्रियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए मोदी सरकार पर हमला बोला है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि, मोदी सरकार जब बनी थी, तब पड़ोसी देशों के नेताओं को आमंत्रित किया गया था. लेकिन क्या वजह है कि, 6 साल में नेपाल सहित सभी पड़ोसी देश हमारे खिलाफ हो गए हैं.

'चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में'
चीन को लेकर सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि, चीन के साथ भारत की नीति सवालों के घेरे में है. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ पीएम मोदी ने झूला-झूला था, यह देश को याद है. उस समय भी बॉर्डर पर तनाव था. लेकिन आज चीन की जो नीति है, उसका पीएम मोदी के पास कोई जवाब नहीं है. मोदी देश के पहले पीएम हैं, जिनके वक्तव्य का चीन में स्वागत हुआ है.

'राहुल गांधी के सवालों का जवाब नहीं देती BJP'
मुख्यमंत्री ने कहा कि, मोदी सरकार के नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के सवालों के जवाब नहीं देते. कांग्रेस मांग करती है कि, चीन के मामले को लेकर प्रधानमंत्री अपनी स्थिति स्पष्ट करें. देश को नहीं पता है कि, कितने सैनिक शहीद हुए हैं. कितने घायल हुए हैं और चीन में कितने सैनिक मारे गए हैं, कितनी जमीन पर चीन ने कब्जा किया है. देश को यह जानने का हक है.

कारगिल के समय सैनिकों का जब्जा देखने लायक था
अशोक गहलोत ने कहा है कि, 1962 में जब चीन के साथ युद्ध हुआ था, उस समय देश के पास हथियार नहीं थे, लेकिन देश के सैनिकों का जज्बा देखने लायक था. सीएम ने कहा कि, उस समय मेजर शैतान सिंह के नारे गूंज रहे थे. कारगिल (Kargil War) के युद्ध के समय में भी राजस्थान के जो शहीद हुए थे, मैं उनके घर गया था.

'जनता के सामने सच रखें PM'
सीएम ने कहा कि, कांग्रेस सेना के शहीदों की शहादत को नमन करती है. सेना के साथ खड़ी है. लेकिन आज जब देश सुपर पावर है, तब देश की जनता को वास्तविक स्थिति के बारे में जानने का अधिकार है. प्रधानमंत्री जिनको वक्तव्य देने में मास्टरी है, उनको देश के जनता के सामने सच रखना चाहिए.