close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साउथ अफ्रीका के किलिमंजारो पर तिरंगा फहराने को बेताब मोनिका, आर्थिक अभाव बनी बाधा

जी मीडिया से बातचीत में मोनिका ने बताया कि उन्हें रफ्तार और चुनौतियों से भरी जिंदगी ज्यादा पसंद है. लेकिन जब से वह शादी के बाद राजस्थान की बहू बनकर जयपुर आई है. जिसके बाद यहां खेल सुविधाओं में अभाव का सामना करना पड़ा.

साउथ अफ्रीका के किलिमंजारो पर तिरंगा फहराने को बेताब मोनिका, आर्थिक अभाव बनी बाधा
राजस्थान में ब्याही हरियाणा की बेटी जोह रही बांट (प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: हरियाणा के करनाल जिले में जन्मी मोनिका ने अपने जीवन का लक्ष्य सबसे बेहतरीन पर्वतारोही बनना, 6 साल की उम्र में ही निर्धारित कर लिया था. इस दौरान वो तीसरी कक्षा में पढ़ती थी. मोनिका साउथ अफ्रीका के किलिमंजारो पर तिरंगा फहराने की ठान चुकी है. इससे पहले उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर 100 मीटर लॉंग जंप में रजत मेडल हासिल किया है.

जी मीडिया से बातचीत में मोनिका ने बताया कि उन्हें रफ्तार और चुनौतियों से भरी जिंदगी ज्यादा पसंद है. लेकिन जब से वह शादी के बाद राजस्थान की बहू बनकर जयपुर आई है. उन्हें यहां खेल सुविधाओं के अभाव का सामना करना पड़ा. इसके साथ ही दक्षिण अफ्रीका में एक प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए मोनिका को एक अदद स्पॉंसर की जरुरत है. लेकिन महीनों तक भटकने के बाद भी मोनिका को स्पॉसर नहीं मिल पाया है.

उन्होंने यह भी बताया कि हरियाणा में भी माउंटेंनिंग प्रैक्टिस के लिए कोई सुविधा नहीं थी. लेकिन वहां एथैलेटिक्स ट्रैक की सुविधा होने के कारण ट्रेनिंग पूरी हो जाती थी. लेकिन राजधानी जयपुर में इसका भी अभाव है. जिस कारण जुलाई में होने वाली एक प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उन्हें 2 महीने के लिए ओड़िसा जाना पड़ रहा है.