राजस्थान: SMS अस्पताल में 22 से अधिक कोरोना संक्रमित प्लाज्मा थेरेपी से हुए रिकवर

भंडारी ने दावा किया है कि, आगामी कुछ दिनों के अंदर एसएमएस देश का पहला अस्पताल बन जाएगा. जहां सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीज प्लाज्मा थेरेपी द्वारा स्वस्थ किए जाएंगे.  

राजस्थान: SMS अस्पताल में 22 से अधिक कोरोना संक्रमित प्लाज्मा थेरेपी से हुए रिकवर
इस अस्पताल में अब तक 500 से अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज किया गया है.

आशुतोष शर्मा/जयपुर: राजस्थान में आने वाले दिनों में कोरोना की स्थिति कैसी रहेगी, इसे लेकर स्थिति साफ नहीं है ये बात मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) कह चुके हैं. कोरोना रोकथाम को लेकर जनता को खुद की जिम्मेदारी खुद समझनी होगी, ये बेहद जरूरी हो चुका है.

राजस्थान में नए कोरोना संक्रमितों के एक दिन में दर्ज होने वाले हर रिकॉर्ड टूट रहे हैं और मौतों की संख्या भी बढ़ती जा रही है. लेकिन मौतों के इन आंकड़ो से घबराने की नहीं, बल्कि सबक लेने की जरूरत है. प्रदेश के अकेले सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एसएमएस (SMS) में कोरोना से पहले आम दिनों में भी, औसतन एक दिन में 20 से 25 मौत हर दिन दर्ज की जाती थी.

प्रदेश के एसएमएस हॉस्पिटल की बात करें तो, अच्छी बात ये है कि, 95 प्रतिशत से ज्यादा ऐसे कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं, जो बिना वेंटिलेटर की मदद से ठीक हो गए. दरअसल कोविड पॉजिटिव जिन मरीजों की मौत हो रही है, वो ज्यादातर अन्य गंभीर बीमारियों से ग्रसित थे. इसलिए जरूरी है कि, ऐसे मरीजों का विशेष ध्यान रखा जाए और समय रहते उनको अस्पताल पहुंचाया जाए.

वहीं, घबराने की बात इसलिए भी नहीं हैं, क्योंकि सवाई मानसिंह अस्पताल लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ठीक कर रहा है. एमएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि, प्लाज्मा थेरेपी (Plasma Therapy) द्वारा इलाज कर मरीजों को ठीक किया जा रहा है.

डॉक्टर भंडारी ने कहा कि, प्लाज्मा थेरेपी की अनुमति मेडिकल कॉलेज को देरी से दी गई. नहीं तो एसएमएस अस्पताल देश का पहला ऐसा अस्पताल बन जाता. जहां अभी तक सबसे अधिक मरीज प्लाज्मा थेरेपी से ठीक हुए होते. उन्होंने बताया कि, फिलहाल अस्पताल में हर दिन मरीजों को प्लाज्मा थेरेपी से इलाज दिया जा रहा है और अभी तक करीब 22 से ज्यादा मरीजों को प्लाजमा थेरेपी से इलाज उपलब्ध करवाकर अस्पताल ने स्वस्थ कर दिया है. जो सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के लिए एक बड़ी उपलब्धि है.

भंडारी ने यह भी दावा किया है कि, आगामी कुछ दिनों के अंदर सवाई मानसिंह अस्पताल देश का पहला ऐसा अस्पताल बन जाएगा. जहां सबसे अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीज प्लाज्मा थेरेपी द्वारा स्वस्थ किए जाएंगे. सवाई मानसिंह अस्पताल में अब तक 500 से अधिक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का इलाज किया गया है. मौत के आंकड़ों को छोड़ दें तो, 97 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्हें बिना वेंटिलेटर ही पॉजिटिव से निगेटिव किया गया.

उन्होंने कहा कि, सवाई मानसिंह अस्पताल के लिए यह अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है. इसके अलावा सिटी स्कैन चेस्ट, सिटी पल्मोनरी एंजियोग्राफी और अल्ट्रासाउंड इकोकार्डियोग्राफी जैसी सुविधाएं यहां मरीजों को दी गई. वहीं, फेफड़ों में निमोनिया और ब्लड में क्लॉट का पता लगाकर मरीजों को गंभीर स्थिति में पहुंचने से बचाया गया.