डूंगरपुर में चल रहा आंदोलन हुआ उग्र, लोगों ने फूंकी गाड़ियां, NH-8 जाम

डूंगरपुर जिले के भुवाली के पास एनएच 8 पर अभी स्थिति तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं. उपद्रवी थोड़ी थोड़ी देर पथराव कर रहे हैं.

डूंगरपुर में चल रहा आंदोलन हुआ उग्र, लोगों ने फूंकी गाड़ियां, NH-8 जाम
हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया.

डूंगरपुर: राजस्थान के डूंगरपुर जिले के भुवाली के पास एनएच 8 पर अभी स्थिति तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं. उपद्रवी थोड़ी थोड़ी देर पथराव कर रहे हैं. उपद्रवियों ने एनएच 8 पर मोतली मोड़ के पास अतिथि होटल पर भी तोड़फोड़ की और वहां पर खड़े पुलिस के वाहनों को भी आग लगा दी. 

वहीं, पथराव में घायल बिछीवाड़ा थानाधिकारी को रेफर किया गया है. अन्य घायल पुलिस कर्मियों का बिछीवाड़ा व अन्य अस्पताल में उपचार जारी है. इधर पथराव में घायल एएसपी गणपति महावर का जिला अस्पताल में उपचार जारी है. घायल एएसपी ने बताया कि उन्होंने ट्रक के पीछे लटक कर अपनी जान बचाई.

ये भी पढ़ें: पंचायत चुनाव में बाहरी राज्यों की महिलाओं को नहीं मिलेगा आरक्षण का लाभ

हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया. वहीं, कुछ वाहनों में भी तोड़फोड़ की. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को काबू करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े, लेकिन प्रदर्शनकारी काबू में नहीं आ रहे हैं. प्रदर्शनकारियों द्वारा किए गए पथराव में बिछीवाडा थानाधिकारी, कई पुलिसकर्मियों सहित डूंगरपुर उपखंड अधिकारी का ड्राइवर भी घायल हुआ है. 

मुख्यालय से पुलिस और प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए हैं तथा स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. वहीं, प्रदर्शनकारियों से समझाइश के प्रयास भी किये जा रहे हैं. हाईवे जाम को देखते हुए पुलिस ने मोतली मोड और बिछीवाड़ा से ट्रैफिक को डायवर्ट कर दिया है. 

फ़िलहाल पुलिस मूवमेंट कर रही रही है और उपद्रवियों के कब्जे से हाइवे का 1 किलोमीटर कब्जा हटाया गया है. फंसे हुए वाहनों को रवाना करवाया है. कुछ उपद्रवियों को हिरासत में भी लिया गया है. भुवाली के पास हाइवे व डूंगरी पर उपद्रवी डटे हुए हैं. कलेक्टर व एसपी भी मौके पर मौजूद हैं.

आंदोलन की वजह
हम आपको बता दें कि शिक्षक भर्ती 2018 में सामान्य वर्ग से रिक्त पड़े 1167 पदों को एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों से भरने की मांग को लेकर एसटी वर्ग के अभ्यर्थी और उनके समर्थक पिछले 18 दिनों से भूवाली गांव के पास काकरी डूंगरी पर पड़ाव डाले बैठे थे और कल शाम 4 बजे उन्होंने हाईवे जाम कर दिया है.

सीएम गहलोत से मिलेगा प्रतिनिधि मंडल
इस मामले पर सीएम अशोक गहलोत ने भी अपनी नज़र बनाई हुई है. उन्होंने सीएमआर में टीएडी मंत्री व विधायकों से चर्चा की है. साथ ही डूंगरपुर कांग्रेस विधायक गणेश घोघरा, बीटीपी विधायक राजकुमार रोत व रामप्रसाद डिंडोर से भी चर्चा की है. शाम 5 बजे डूंगरपुर से आंदोलन से जुड़े प्रतिनिधि मंडल को बातचीत के लिए बुलाया गया है. सीएमआर में सीएम प्रतिनिधि मडंल से वार्ता करेंगे.

मामले में सीडब्ल्यूसी मेंबर रघुवीर मीणा ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा कि कुछ शरारती तत्वों ने अपने राजनैतिक लाभ के लिए माज के युवाओं को गुमराह किया है. इसी लिए वे सड़को पर उतरे है वरना वे लंबे समय से शांतिपूर्वक आंदोलन कर रहे थे और सरकार उनकी मांगों पर गंभीरता भी दिखा रही थी. मीणा ने हाइवे पर उतरे समाज के युवाओं से की अपील वे उग्र आंदोलन को खत्म करे वे खुद उनकी लड़ाई साथ मिल कर लड़ेंगे.

इस मामले पर राज्यसभा सांसद किरोड़ीलाल मीणा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिख कर डूंगरपुर के कांकर डूंगरी में चल रहे धरने का मुद्दा उठाया है. टीएसपी क्षेत्र में आदिवासियों को पद देकर नियुक्ति देने को लेकर पत्र लिखकर उन्होंने कहा कि युवाओं के आंदोलन पर पुलिस बल का प्रयोग करने की बजाय उनकी मांगों का माना जाना चाहिए. राज्य सरकार को टीएसपी क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के 1167 पद तुरंत भरकर युवाओं की मांग पूरी करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: Jaipur Metro के सहारे दौड़ेगा 'परकोटे का बिजनेस', बाजारों को मिली संजीवनी