close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मंटो पर बोलीं नंदिता दास, मनोरंजन से ज्यादा कहानी से लोगों को जोड़ना है जरूरी

हम अक्सर सोचते हैं कि फिल्म में केवल मनोरंजन होना चाहिए, लेकिन मुझे लगता है कि दर्शकों को विषय से जोड़ना जरूरी है.

मंटो पर बोलीं नंदिता दास, मनोरंजन से ज्यादा कहानी से लोगों को जोड़ना है जरूरी
फिल्म 'मंटो' 21 सितंबर को रिलीज होगी.

नई दिल्ली: फिल्म 'मंटो' की निर्देशक नंदिता दास ने कहा कि दर्शकों का मनोरंजन करने की तुलना में फिल्म से उनका जुड़ाव आवश्यक है. नंदिता ने सोमवार को डब्ल्यूसीआरसी आइडिया-फेस्ट 2018 अवॉर्ड के तीसरे संस्करण के दौरान संवाददाताओं से यह बात कही.

फिल्म के ट्रेलर पर दर्शकों की प्रतिक्रिया के बारे में नंदिता ने कहा, 'लोग सोचते थे कि यह 1940 के दशक की पृष्ठभूमि में एक पीरियड फिल्म है और नंदिता केवल गंभीर प्रकार की फिल्म बनाती है. लेकिन, ट्रेलर को मिली प्रतिक्रिया से हमें पता चला कि बहुत से लोग खुद को फिल्म से जोड़ रहे हैं'.

उन्होंने कहा, 'हम अक्सर सोचते हैं कि फिल्म में केवल मनोरंजन होना चाहिए, लेकिन मुझे लगता है कि दर्शकों को विषय से जोड़ना जरूरी है. अगर दर्शक जुड़ जाते हैं तो फिर उन्हें इसका अहसास नहीं होता कि फिल्म में गाने या नृत्य हैं या नहीं'.

मंटो के बारे में बात करते हुए नंदिता ने कहा था कि 'मंटो हमेंशा से ही अपने विचारों को रखने की आजादी के साथ खड़े थे. उन्होंने अपने जीवन में संघर्षों और अपने लेखन के जरिए इसे प्रदर्शित भी किया है. उन्होंने सभी प्रकार की रूढ़िवादिता को चुनौती दी. इसके चलते उन्हें छह मुकदमों का भी सामना करना पड़ा. फिल्म मंटो में मुख्य भूमिका के लिए उन्होंने नवाजुद्दीन सिद्दीकी को चुना क्योंकि उनमें उर्दू के महान लेखक और कहानीकार की तरह कई समानताएं हैं.' 

नंदिता ने कहा कि 'मंटो' को लिखते वक्त उनके दिमाग में हमेशा नवाज ही रहे. वह इन दिनों इससे जुड़े कामों में ही मशगूल है. उन्हे अपने लिखने की ताकत पर पूरा भरोसा था. उनका इस तरह के दृढ़ विश्वास और अपनी बात पर बने रहने का साहस प्रेरणादायक है'.

आपको बता दें, 'मंटो' की कहानियां समाज के इर्द-गिर्द घूमती हुई होती हैं और समाज की सच्चाई को पेश करती हैं.. जिसके चलते उनपर कई मुक्कदमे भी हुए. हालांकि, इसके बाद भी उन्होंने कभी लिखना नहीं छोड़ा. 'मंटो', सआदत हसन के जीवन पर आधारित है और स्वतंत्रता से पहले और स्वतंत्रता के बाद की कहानी को दिखाती है. फिल्म 'मंटो' 21 सितंबर को रिलीज होगी.

(इनपुट-आईएएनएस)