नरेंद्र मोदी रैली करके भी राजस्थान में नहीं कर सकते 'डैमेज कंट्रोल': अशोक गहलोत

अशोक गहलोत ने कहा वसुंधरा जी के प्रति इतना गुस्सा है कि मोदीजी और अमित शाह जी आ करके भी डैमेज कण्ट्रोल नहीं कर सकते है.

नरेंद्र मोदी रैली करके भी राजस्थान में नहीं कर सकते 'डैमेज कंट्रोल': अशोक गहलोत
राजस्थान में सात दिसंबर को नई विधानसभा के लिए मतदान होना है.

जयपुर/नयी दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने मंगलवार को राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर जनता की अपेक्षाओं पर पानी फेरने का आरोप लगाया और कहा कि जनता में वसुंधरा के खिलाफ आक्रोश इतना ज्यादा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह किसी तरह से 'डैमेज कंट्रोल' नहीं कर सकते.

गहलोत ने चुनाव प्रचार के दौरान पत्रकारों के एक समूह से कहा, '163 सीटें मिलने के बाद भी जनता की अपेक्षाओं पर पानी फेर दिया गया. लोग कह रहे हैं की हमारा कसूर क्या है? आपने ऐसा व्यवहार क्यों किया? वसुंधरा जी के प्रति इतना गुस्सा है कि मोदीजी और अमित शाह जी आ करके भी डैमेज कण्ट्रोल नहीं कर सकते है'. 

उन्होंने दावा किया, 'इस चुनाव में इनका हारना और कांग्रेस की सरकार बनना निश्चित है'. कांग्रेस के संगठन महासचिव ने कहा, 'अमित शाह जी ने गुजरात में मिशन 150 की बात की थी, लेकिन 90 के इर्द-गिर्द आ गए. अब राजस्थान में भाजपा का कोई नेता मिशन 180 का नाम क्यों नहीं लेता? इसका कारण साफ है कि जनता में भारी आक्रोश है और वे यह चुनाव हारने जा रहे हैं'.

वहीं प्रदेश में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी-कांग्रेस का चुनाव प्रचार अपने जोरो पर है. सभी राजनीतिक दल इस कोशिश में हैं कि स्टार प्रचारक ज्यादा से ज्यादा प्रदेश की जनता के बीच जाकर पार्टी के लिए जनता से समर्थन मांगे. इसी कड़ी में बीजेपी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सभाओं की संख्या बढ़ा दी है. चुनाव प्रचार की मियाद के आखिरी दिन मोदी एक बार फिर राजस्थान के दौरे पर रहेंगे और इस दिन दौसा के दो जिलों में पीएम मोदी चुनावी रैलियों को संबोधित करेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे प्रदेश में 4 दिसंबर तक ही थे लेकिन दौसा और पाली जिले की बीजेपी यूनिट की मांग पर मोदी के दौरों की संख्या बढ़ाई गई है. अब प्रधानमंत्री 5 दिसंबर के दिन भी राजस्थान के दौरे पर रहेंगे. इस दिन प्रधानमंत्री प्रदेश के पूरब और पश्चिम में दो जगह सभाओं को संबोधित करेंगे. एक सभा दौसा जिले में होगी तो दूसरी पाली जिले में तय की गई है. राजस्थान में सात दिसंबर को नई विधानसभा के लिए मतदान होना है.

(इनपुट-भाषा)