close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अब प्रेमी जोड़ा बना मॉब लिंचिंग का शिकार, लड़की के परिजनों ने पीट-पीट कर युवक की ली जान

सीमावर्ती बाड़मेर जिले के रामसर थाना क्षेत्र के भिंडे का पार मेकरन वाला गांव में शनिवार अल सुबह कुछ लोगों ने मुक्कों, लातो और लाठियों से पीट-पीट कर युवक का गला दबाकर हत्या कर दी. 

अब प्रेमी जोड़ा बना मॉब लिंचिंग का शिकार, लड़की के परिजनों ने पीट-पीट कर युवक की ली जान

बाड़मेर: अलवर में अकबर की घटना के बाद देश मॉब लांचिंग को लेकर संसद से लेकर सड़क तक घमासान मचा हुआ है. वहीं दूसरी तरफ बाड़मेर के बोर्डर से सटे गांव में एक दलित को अल्पसंख्य युवती से प्यार करना बहुत महंगा पड़ गया कि उसको इसका हर्जाना अपनी जान देकर चुकाना पड़ा. यहां भी लोगों द्वारा मिल कर दलित की जान ले ली गई.

दरअसल सीमावर्ती बाड़मेर जिले के रामसर थाना क्षेत्र के भिंडे का पार मेकरन वाला गांव में शनिवार अल सुबह कुछ लोगों ने मुक्कों, लातो और लाठियों से पीट-पीट कर युवक का गला दबाकर हत्या कर दी. उसके बाद शव को उठाकर नजदीक सूनसान स्थित ढाणी में फेंक दिया इस बात का खुलासा तीन दिन बाद हुआ. चौहटन पुलिस उपअधीक्षक सुरेन्द्र कुमार प्रजापत ने बताया कि भिण्डे का पार निवासी खेताराम भील की हत्या के मामले में दो युवक पठाई खान पुत्र भाखर खान और अनवर खान पुत्र साले मोहम्मद निवासी मेकरनवाला को गिरफ्तार किया गया है. 

पुलिस ने इन लोगो को दो दिन पूर्व ही हिरासत में ले लिया था. जहां दो दिन तक चली पुलिस पुछताछ के बाद इन्हे हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया है. पूछताछ में उन्होंने यह बात कबूली है कि प्रेम प्रसंग के चलते उन्होंने दलित खेताराम की पीट पीट कर हत्या कर दी. पुलिस उपअधीक्षक के मुताबिक इन दोनो आरोपियों से पूछताछ कर हत्या के मामले में शामिल अन्य आरोपियों की पहचान करने के साथ ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट, मौत के कारणों की पड़ताल करेगी. उपअधीक्षक प्रजापत के मुताबिक मृतक के शरीर पर कई जगह गहरे घाव बने हुए थे और गला घोटने के भी सबूत मिले हैं.

वहीं आपको बता दें कि ऐसे ही दो मामले उदयपुर से भी सामने आए हैं. जहां लोगों ने एक युवक को चोर होने के शक में जमकर पीटा. वहीं दूसरे मामले में कुछ लोगों ने दो स्कूटी सवार युवकों की जमकर धुनाई की. लगातार मॉब लिंचिंग के सामने आते मामलों के कारण राजस्थान सरकार पर भी विपक्षों द्वारा लगातार हमले किए जा रहे हैं. वहीं पुलिस भी सभी मामलों में सख्ती से जांच कर रही है.