दिसंबर के आखिरी के सप्ताह में बनेगी PCC की नई टीम, पायलट गुट के लोगों को मिल सकती है जगह

पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा की टीम में नए और जमीनी कार्यकर्ताओं को मौका मिलेगा. जिन नेताओं को लोकसभा, विधानसभा, और निकाय चुनावों में टिकट  नहीं मिल पाया, उन्हें भी प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में शामिल किया जा सकता है.

दिसंबर के आखिरी के सप्ताह में बनेगी PCC की नई टीम, पायलट गुट के लोगों को मिल सकती है जगह
प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी के गठन को लेकर कवायद शुरू हो चुकी है.

जयपुर: पिछले 5 महीने से बिना प्रदेश कार्यकारिणी के काम कर रहे प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) को जल्द ही नई टीम मिल सकती है. खुद पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने भी इसके संकेत दिए हैं.  

माना जा रहा है कि दिसंबर के आखिरी सप्ताह या फिर जनवरी की शुरुआत में प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी सामने आ सकती है. पीसीसी इस कार्यकारिणी पर अशोक गहलोत गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) के अलावा सचिन पायलट (Sachin Pilot) और सीपी जोशी की छाप भी नजर आ सकती है.

यह भी पढ़ें- राजस्थान में जल्द खत्म हो सकता है नियुक्तियों का इंतजार, डोटासरा ने कही यह बड़ी बात...

 

प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी के गठन को लेकर कवायद शुरू हो चुकी है. इसे लेकर 13 दिसम्बर को प्रदेश प्रभारी अजय माकन की अध्यक्षता में पार्टी नेताओं की बैठक भी होने वाली है, जिसमें कार्यकारिणी के संभावित नामों को लेकर चर्चा होगी. बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के अलावा वरिष्ठ नेता भी शामिल होंगे. प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट की जम्बो कार्यकारिणी की तुलना में इस बार प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) की नई कार्यकारिणी छोटी होगी. 

30 से ज्यादा प्रदेश सचिव बनाए जाने की चर्चा 
प्रदेश कांग्रेस की संभावित कार्यकारिणी में आधा दर्जन उपाध्यक्ष, डेढ़ दर्जन प्रदेश महासचिव और 30 से ज्यादा प्रदेश सचिव बनाए जाने की चर्चा है. संगठन महासचिव की जगह इस बार संगठन उपाध्यक्ष का पद सबसे अधिक पावरफुल होगा वहीं जयपुर कोटा और जोधपुर शहर में दो नगर निगम होने के चलते दो शहर अध्यक्ष भी बनाए जा सकते हैं.

टिकट ने पाने वालों को मिल सकता मौका
पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा की टीम में नए और जमीनी कार्यकर्ताओं को मौका मिलेगा. जिन नेताओं को लोकसभा, विधानसभा, और निकाय चुनावों में टिकट  नहीं मिल पाया, उन्हें भी प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में शामिल किया जा सकता है. इसके अलावा युवा कांग्रेस, एनएसयूआई, महिला कांग्रेस और सेवादल से निकले अध्यक्षों को भी प्रदेश कांग्रेस की नई टीम में शामिल किया जा सकता है. 

प्रदेश कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में प्रदेश कांग्रेस के सभी गुटों से जुड़े नेताओं को शामिल किया जाएगा. पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट और विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी कैंप से जुड़े नेताओं को भी कार्यकारिणी में जगह मिलना तय है. 

कांग्रेस अपने मजबूत संगठन के साथ नजर आएगी 
प्रदेश कांग्रेस की इस नई टीम पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) की छाप नजर आएगी लेकिन फिर भी पीसीसी चीफ को कांग्रेस के सभी खेमों और जातिगत समीकरणों का भी ध्यान रखना होगा. कांग्रेस को अपने परंपरागत वोट बैंक के साथ-साथ सभी वर्गों से जुड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं को कार्यकारिणी में एडजस्ट करना होगा. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने जब इस साल के आखिर में नई टीम के ऐलान का संदेश दे दिया है. ऐसे में माना जा रहा है कि 2021 में कांग्रेस अपने मजबूत संगठन के साथ नजर आएगी ताकि सरकार की फ्लैगशिप योजनाओं के जरिए 2023 के चुनाव की तैयारी का बिगुल बजाया जा सके.