close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में परिवहन विभाग के नए नियम जनता के लिए बने मुसीबत

सॉफ्टवेयर में बदलाव होने से जनता के साथ कर्मचारी भी परेशान है. इसका खमियाजा उन लोगों को ज्यादा उठाना पड़ रहा है जिनके लाइसेंस की मियाद खत्म होने वाली है.

राजस्थान में परिवहन विभाग के नए नियम जनता के लिए बने मुसीबत
परिवहन विभाग ने सॉफ्टवेयर में बदलाव किया है.

दामोदर प्रसाद/जयपुर: परिवहन विभाग के नए नियम जनता के लिए मुसीबत बन कर खड़े हो गए है. अब विभाग के सिस्टम ने साफ्टवेयर में परेशानी भरा ऐसा एरर डाल दिया है, जिससे लोगों के लाइसेंस का नवीनीकरण नहीं हो पा रहे है. अगर लाइसेंस नवीनीकरण कराना भी पड़े तो पहले परिवहन विभाग के अलग-अलग कार्यालयों में चक्कर लगाना पड़ेगा. पूरे दिनभर की भागदौड़ के बाद आवेदक जब अपना काम कराएगा तब तक दफ्तर ही बंद हो जाएगा. ऐसे में उसे दूसरे दिन ही अपना लाइसेंस नवीनीकरण कराना होगा.

जयपुर में आरटीओ के तीनों कार्यालयों में पिछले पांच दिनों से रोज सैकड़ों लोगों को इस समस्या का दंश झेलना पड़ रहा है. खास बात है कि खुद आरटीओ अधिकारियों के पास इसका समाधान नहीं है. मुख्यालय स्तर से ही सॉफ्टवेयर में बदलाव होने से जनता के साथ कर्मचारी भी परेशान है. इसका खमियाजा उन लोगों को ज्यादा उठाना पड़ रहा है जिनके लाइसेंस की मियाद खत्म होने वाली है.

ऐसे में एरर की समस्या के चलते लाइसेंस नवीनीकरण नहीं हो पा रहे हैं और अवधि भी निकल रही है. झालाना सहित जगतपुरा और विद्याधर नगर में रोज करीब 400 आवेदन लाइसेंस नवीनीकरण के लिए आ रहे हैं, लेकिन समस्या के चलते लोगों को एक कार्यालय से दूसरे में चक्कर लगाना पड़ रहा है.

बता दें कि परिवहन विभाग ने सॉफ्टवेयर में बदलाव किया है. इसके तहत अगर आवेदक लाइसेंस नवीनीकरण के लिए आवेदन कर रहा है तो सिस्टम में रिडुप्लीकेशन का एरर आ रहा है. आवेदक से जुड़ा हुआ दो या उससे अधिक आरटीओ कार्यालयों के डाटा सिस्टम में नजर आ रहा है. ऐसे में पहले आवेदक को एरर हटवाने के लिए उन आरटीओ कार्यालयों में जाना होगा, जहां उसने पहले लाइसेंस संबंधी काम करवाया है. 

एरर हटवाने के बाद ही आवेदक अपना लाइसेंस नवीनीकरण करवा सकता है. जबकि पांच दिन पहले तक ऐसी कोई समस्या साफ्टवेयर में नहीं थी. लोग कहीं भी किसी भी कार्यालय में जाकर अपना लाइसेंस संबंधी काम करवा सकते थे.