जयपुर: SOG के हत्थे चढ़ा नाइजीरियन ठग, भागने की फिराक में था आरोपी

राजधानी में ऑनलाइन और साइबर ठगी की वारदातों को अंजाम देने वाला शातिर नाइजीरियन ठग राजस्थान एसओजी के हत्थे चढ़ गया है.

जयपुर: SOG के हत्थे चढ़ा नाइजीरियन ठग, भागने की फिराक में था आरोपी
राजस्थान एसओजी की गिरफ्त में नाइजीरियन ठग

आशुतोष शर्मा, जयपुर: राजधानी में ऑनलाइन और साइबर ठगी की वारदातों को अंजाम देने वाला शातिर नाइजीरियन ठग राजस्थान एसओजी के हत्थे चढ़ गया है. राजस्थान एसओजी ने साइबर ठगी की वारदातों का पर्दाफाश कर शातिर नाइजीरिय ठग को गिरफ्तार किया है. इस अंतरराष्ट्रीय ठग से इलैक्ट्रॉनिक गैजेट्स भी बरामद किए हैं.

जयपुर में रोजाना एटीएम और डेबिट कार्ड या इंश्योरेंस के अलावा ऑनलाइन सेल परचेज साइट के जरिए ठगी की वारदातें सामने आने के बाद जयपुर पुलिस कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच और साइबर थाना पुलिस सर्तक हुई. वहीं पुलिस कमिश्नरेट के विशेष अपराध और साइबर थाना पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए शातिर ठग रितेश कुमार से पूछताछ में इस गिरोह के बारे में एसओजी को जानकारी मिली थी. 

वहीं जवाहरात एक्सपोर्ट व्यवसायी का बिजनेस ईमेल हैक कर ईलाज के बहाने करीब 8 लाख रूपए की ठगी करने का मामला सामने आया था. मामले की जांच के दौरान एसओजी टीम ने इस गिरोह के बारे में सूचना जुटाते हुए मुम्बई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से नाइजीरिया निवासी एरिक चुकवुडी ओकाफोर को गिरफ्तार किया है.

बिजनेस मेल के जरिए लाखों रूपए की साइबर ठगी कर अपने खातों में पैसे ट्रांजेक्शन करने की वारदात का पर्दाफाश करते हुए एसओजी ने इस अंतरराष्ट्रीय ठग को गिरफ्तार किया. एसओजी अधिकारियों की माने तो नाइजीरिय ठग एरिक चुकवुडी ओकाफोर ईलाज का वीजा लेकर भारत आया था, जिसके बाद दिल्ली और आस-पास के इलाकों में रहकर आरोपी रितेश कुमार और नाइजीरिया में बैठे अपने अन्य साथियों के साथ ठगी की वारदातों को अंजाम दे रहा था.

4 जनवरी को होने वाली अपनी शादी की तमाम तैयारियां करने के बाद आरोपी वापस नाइजीरिया लौटने की फिराक में था, लेकिन एसओजी टीम ने सूचना जुटाते हुए उसे मुम्बई इंटरनेशनल एयरपोर्ट से दबोच लिया. प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि ठगी की रकम कमीशन के आधार पर लिए गए बैंक खातों में डालवाई गई थी. वहीं इस गिरोह में अन्य देशों में बैठे साइबर ठगों की मिलीभगत भी सामने आई है, जिसकी एसओजी टीम जांच कर रही है.

साइबर ठगी की वारदातों को लेकर एसओजी टीम को यह बड़ी सफलता हाथ लगी है. माना जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय ठग से पूछताछ के बाद राजधानी समेत देश के अन्य इलाकों में हुई साइबर ठगी की कुछ और वारदातों का खुलासा हो सकता है.