पैरेंट्स को गहलोत सरकार ने दी बड़ी राहत, राजस्थान में अब 'स्कूल नहीं, फीस नहीं' लागू

अभिभावकों ने माला और गुलदस्ता भेंट कर शिक्षा मंत्री का आभार जताया. 

पैरेंट्स को गहलोत सरकार ने दी बड़ी राहत, राजस्थान में अब 'स्कूल नहीं, फीस नहीं' लागू
सीएम अशोक गहलोत.

जयपुर: शिक्षा विभाग की ओर से प्रदेश के लाखों अभिभावकों को बड़ी राहत दी है. शिक्षा विभाग ने स्कूल नहीं खुलने तक निजी स्कूलों की फीस को स्थगित करने का फैसला अभिभावकों के पक्ष में दिया है, जिसके बाद अब प्रदेशभर के अभिभावक शिक्षा मंत्री का आभार जता रहे हैं.

आज सुबह-सुबह ही बड़ी संख्या में अभिभावक शिक्षा मंत्री के आवास पहुंचे. अभिभावकों ने माला और गुलदस्ता भेंट कर शिक्षा मंत्री का आभार जताया. साथ ही फीस को स्थगित नहीं कर रद्द करने की शिक्षा मंत्री से गुहार लगाई. 

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने अभिभावकों और निजी स्कूलों के हितों को देखते हुए फैसले लेने का आश्वासन दिया. शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि 30 जून तक निजी स्कूलों द्वारा फीस नहीं लेने के आदेश जारी थे लेकिनउसके बाद से ही लगातार निजी स्कूलों द्वारा फीस वसूली के दबाव बनाने की शिकायत मिल रही है. कांग्रेस सरकार हमेशा अभिभावकों की हितैशी सरकार रही है और इसी कड़ी में ये फैसला लिया गया है. 

साथ ही अगर कोई स्कूल आदेशों की अवहेलना करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी, वो चाहे कितनी भी बड़ा स्कूल हो. तो वहीं पैरेंट्स वेलफेयर सोसायटी के संयोजक दिनेश कांवट ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से लगातार स्कूल प्रशासन अभिभावकों को फीस को लेकर परेशान कर रहे थे, ऐसे में शिक्षा मंत्री द्वारा बड़ा फैसला लिया गया है लेकिन प्रदेश के अभिभावक चाहते हैं फीस को स्थगित के बजाय रद्द करने का ही फैसला