झालावाड़: राजकीय पशु चिकित्सालय पर लटका ताला, दर-दर भटक रहे पशुपालक

गंगधार स्थित राजकीय पशु चिकित्सालय (State Veterinary Hospital) में रिक्त पदों के कारण चिकित्सालय का ताला खोलने वाला स्टाफ भी नहीं बचा है. 

झालावाड़: राजकीय पशु चिकित्सालय पर लटका ताला, दर-दर भटक रहे पशुपालक
बीमार पशुओं की चिकित्सा के लिए पशुपालकों को दर-दर भटकना पड़ रहा है.

महेश परिहार, झालावाड़: जिले के गंगधार स्थित पशु चिकित्सालय (Animal Hospital) में स्टाफ की कमी के चलते अधिकांश समय ताला लटका रहता है. इसके चलते बीमार पशुओं की चिकित्सा के लिए पशुपालकों (Cattle Ranchers) को दर-दर भटकना पड़ रहा है.

झालावाड़ जिले के राजकीय पशु चिकित्सालय (State Veterinary Hospital) गंगधार में सरकारी उदासीनता का ताला लटका है. पशु चिकित्साधिकारी और आवश्यक स्टाफ के रिक्त पदों के बीच पशु चिकित्सालय (Veterinary Hospital) का चैनल गेट हमेशा बंद रहता है, जिसके चलते पशुओं के उपचार के लिए पशुपालक दर-दर भटक रहे हैं. मजबूरी में पशुपालकों को पशुओं के उपचार के लिए निजी चिकित्सकों से सेवाएं लेनी पड़ रही है. ऐसे में समय और धन दोनों की बर्बादी हो रही है.

गंगधार स्थित राजकीय पशु चिकित्सालय (State Veterinary Hospital) में रिक्त पदों के कारण चिकित्सालय का ताला खोलने वाला स्टाफ भी नहीं बचा है. मौसमी बीमारियों के बीच पशुओं के उपचार को लेकर पशुपालकों (Cattle Ranchers) को भी खासी परेशानी उठानी पड़ रही है.