उत्तर पश्चिम रेलवे ने चलाई इतनी अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेन, 1.75 लाख प्रवासी पहुंचे घर

उत्तर पश्चिम रेलवे पर 121 श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं द्वारा एक लाख 75 हजार से अधिक प्रवासियों को गंतव्य तक पहुंचाया जा चुका है.

उत्तर पश्चिम रेलवे ने चलाई इतनी अधिक श्रमिक स्पेशल ट्रेन, 1.75 लाख प्रवासी पहुंचे घर
श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं के संचालन की योजना के लिए रेलवे तैयार है.

दामोदर प्रसाद, जयपुर: उत्तर पश्चिम रेलवे पर 121 श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं द्वारा एक लाख 75 हजार से अधिक प्रवासियों को गंतव्य तक पहुंचाया जा चुका है. आने वाले दिनों में भी आवश्यकता अनुसार अन्य राज्यों के लिए भी श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं के संचालन की योजना के लिए रेलवे तैयार है.

121 श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं के माध्यम से बिहार के 89 हजार, उत्तर प्रदेश के 49 हजार, मध्य प्रदेश के 15 हजार, झारखंड के 5600 और पश्चिम बंगाल के 6800 सहित अन्य राज्यों जैसे आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, केरल, छत्तीसगढ़ के श्रमिकों के लिए संचालित की गई है. कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए लॉक डाउन के समय रेलवे द्वारा देश के विभिन्न भागों में रोजगार संबंधी कार्यों के लिए निवास कर रहे प्रवासियों को उनके गृह राज्य में पहुंचाने के लिए विभिन्न स्थानों से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है. 

28 मई को लोकमान्य तिलक टर्मिनल (महाराष्ट्र) से जयपुर व नागौर पहुंचाने वाली श्रमिक स्पेशल रेल सेवा सहित उत्तर पश्चिम रेलवे पर 42 श्रमिक स्पेशल रेल सेवाएं अन्य राज्यों से आई है, जिनमें 48 हजार से अधिक बाहर रहने वाले राज्यों से आए हैं. इन रेल सेवाओं में महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, गुजरात, झारखंड, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल से उत्तर पश्चिम रेलवे पर आई है. राज्यों के लिए श्रमिक स्पेशल रेल सेवाओं के संचालन की योजना के लिए रेलवे राज्य सरकारों के साथ समन्वय कार्य कर रही है.

 

ये भी पढ़ें: CM गहलोत ने किया सोनिया गांधी के 'स्पीक अप अभियान' का समर्थन, कही ये बातें