जयपुर डिस्कॉम का वित्तीय करंट, 30 हजार से अधिक उपभोक्ताओं को भेजे नोटिस

जयपुर डिस्कॉम ने वित्तीय साल के अंतिम तिमाही में बिजली उपभोक्ताओं के खाते की प्रतिभूति राशि को संशोधित करते हुए दो से 10 हजार रुपये जमा करवाने के नोटिस थमाए हैं.

जयपुर डिस्कॉम का वित्तीय करंट, 30 हजार से अधिक उपभोक्ताओं को भेजे नोटिस
डिस्कॉम के इंजीनियरों की दलील है कि अमानत राशि पर एक साल में ब्याज भी मिलता है.

जयपुर: बिजली महकमा घाटा पूरा करने के लिए उपभोक्ताओं पर कोई रियायत नहीं बरत रहा है. बिजली बिल में उपभोग की गई यूनिट्स के साथ लग रहे तमाम खर्चे बिल में जोड़े जा रहे हैं, ऐसे में आम औसत उपभोग करने वाले उपभोक्ता का बिजली बिल न्यूनतम 10 रुपये प्रति यूनिट से अधिक आ रहा है.

वहीं जयपुर डिस्कॉम ने शहर के करीब 30 हजार से अधिक उपभोक्ताओं को प्रतिभूति राशि जमा करवाने के नोटिस थमा दिए हैं, लेकिन बिजली बिल जमा करने वाले ई-मित्र काउंटरों पर प्रतिभूति राशि जमा करवाने की कोई व्यवस्था नहीं है. ऐसे में उपभोक्ताओं को डिस्कॉम के सबडिवीजन कार्यालयों में चक्कर लगाना पड़ रहे हैं.

जयपुर डिस्कॉम ने वित्तीय साल के अंतिम तिमाही में बिजली उपभोक्ताओं के खाते की प्रतिभूति राशि को संशोधित करते हुए दो से 10 हजार रुपये जमा करवाने के नोटिस थमाए हैं. अकेले जयपुर शहर में ऐसे करीब 15 हजार नोटिस भेजे गए हैं, वहीं, उपभोक्ताओं का कहना है कि कनेक्शन लेते समय और तीन साल पहले प्रतिभूति राशि जमा करवा चुके हैं, लेकिन डिस्कॉम ने रिकॉर्ड में जमा नहीं होने का बहाना कर यह बकाया के नोटिस दिए हैं जबकि तीन से पांच साल पहले की रसीद ढूंढना मुश्किल है.

उपभोक्ता बकाया राशि नहीं चुकाए तो जब्त हो प्रतिभूति राशि 
ई-मित्र काउंटरों पर पानी-बिजली के बिल जमा होने की सुविधा है, लेकिन डिस्कॉम ने प्रतिभूति राशि जमा कराने की सुविधा ई-मित्र काउंटरों पर नहीं दी है. ऐसे में दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले लोगों को एईएन कार्यालयों तक आना पड़ रहा है. लोगों की मांग है कि बिजली बिल जमा करने वाले ई-मित्र काउंटरों पर प्रतिभूति राशि जमा करने की सुविधा भी दी जाए. जयपुर डिस्कॉम के विद्युत आपूर्ति की शर्तें एवं निबंधन 2004 की धारा 16 ई के तहत हर साल अप्रैल से मार्च तक की अवधि में किए गए वास्तविक उपभोग का आंकलन किया है. उपभोग के आधार पर एक माह के औसत उपभोग और जिस माह सर्वाधिक बिल की राशि हो, उसके हिसाब से अमानत राशि का निर्धारण किया गया है ताकि उपभोक्ता बकाया राशि नहीं चुकाए तो प्रतिभूति राशि जब्त हो जाए.

डिस्कॉम के इंजीनियरों की दलील है कि अमानत राशि पर एक साल में ब्याज भी मिलता है. कनेक्शन कटवाने पर यह राशि उपभोक्ता को लौटा दी जाती है. विभाग के प्रतिभूति राशि जमा करवाने के नोटिस में कई जगह आकलन में भी गड़बडी मिली हैं, ऐसे में सबडिवीजन कार्यालयों पर शिकायतों की संख्या भी बढ़ी है.