close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में अब तीसरे राजघराने ने किया राम के वंशज होने का दावा

सुप्रीम कोर्ट राम मंदिर को लेकर दोनों ही पक्षो से तथ्यों पर आधारित बात करने के साथ हर पक्ष को अपनो बात पूरी तरह से रखने का मौका दे रहा है. 

राजस्थान में अब तीसरे राजघराने ने किया राम के वंशज होने का दावा
उदयपुर और सिरोही राजघराना भी ऐसा ही दावा कर चुका है

हनुमान तंवर/डीडवाना: राम मंदिर राम मंदिर मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में 5 अगस्त से लगातार जारी है. सुप्रीम कोर्ट दोनों ही पक्षो से तथ्यों पर आधारित बात करने सहित हर पक्ष को अपनो बात पूरी तरह से रखने का मौका दे रहा है. सुनवाई के दौरान ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा यह पूछा गया था कि क्या राम का कोई वंशज वर्तमान में है. 

वहीं सुप्रीम कोर्ट के इस सवाल के बाद जयपुर राजघराने ने सबसे पहले राम के वंशज होने का दावा किया है. हालांकि उदयपुर और सिरोही राजघराना भी ऐसा ही दावा कर चुका है. ऐसा ही एक दावा राजपूत समाज के कद्दावर सामाजिक नेता और राजपूत करणी सेना के संस्थापक लोकेंद्र सिंह कालवी ने भी किया है. 

कालवी ने यह भी तर्क दिया है कि केवल राजपूत ही नहीं बल्कि क्षत्रिय वंश से अलग होकर अलग हुई जातियां भी राम की ही वंशज हैं. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि राम के दो पुत्र लव और कुश में से हमारा वंश जो सिसोदिया राजवंश है यह लव के वंशज ही हैं और इसे कोई झुठला नहीं सकता. अगर हमारे दावे पर कोई अंगुली उठाता है तो वेसे लोग तो राम के अस्तित्व को भी नकार सकते हैं. 

उन्होंने दावा करते हुए कहा कि हमने सुप्रीम कोर्ट में आठ महीने पहले एक एप्लिकेशन लगाई है. हालांकि कोर्ट ने उसे स्वीकार नहीं किया है, लेकिन सब अस्वीकार भी नहीं किया है. हमें विश्वास है कि कोर्ट हमारी भावनाओं की कद्र करेगा. 

साथ ही राम मंदिर के लेर उन्होने कहा कि हम वहां मंदिर नहीं बल्कि राजमहल बनवाएंगे क्योंकि भगवान राम राजा थे और वो केवल मंदिर में नहीं रह सकते. हम अयोध्या में 1600 करोड़ को लागत से राजमहल बनवाएंगे जिसके अंदर भव्य राम मंदिर भी होगा.