इजराइल की तकनीक से नागौर में जैतून की खेती, हो रही बम्पर पैदावर

विश्व भर में इजरायल को कृषि में नवाचार कर आधुनिक तकनीक से कृषि कर ज्यादा उत्पादन लेने के लिए जाना जाता है.

इजराइल की तकनीक से नागौर में जैतून की खेती, हो रही बम्पर पैदावर
प्रतीकात्मक तस्वीर

हनुमान तंवर, नागौर: विश्व भर में इजरायल को कृषि में नवाचार कर आधुनिक तकनीक से कृषि कर ज्यादा उत्पादन लेने के लिए जाना जाता है. यही वजह है इस तकनीक से आज विश्वभर में पैदावार बढ़ाई जा रही है. राजस्थान में भी इजरायल की कृषि आधारित तकनीक के जरिये नागौर के लाडनूं उपखण्ड के बाकलिया में ऑलिव कल्टीवेशन लिमिटेड के जरिये जैतून की खेती कर पैदावार ली जा रही है. किसान भी अब जैतून की फसल में रुचि दिखाने लगे. 

ये भी पढ़ें: राष्ट्रीय ध्वज को लेकर कड़े निर्देश, प्लास्टिक नहीं, कागज के झंडों का हो उपयोग

वर्ष 2008 में तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपनी इजरायल यात्रा के दौरान देखा कि इजरायल और राजस्थान का वातावरण एक जैसा है और यहा होने वाली फसलो को राजस्थान में भी उगाया जा सकता है. राजे ने कृषि वैज्ञानिकों की एक टीम भेजकर वहां की तकनीक के जरिये प्रदेश में जैतून और अन्य फसलों की खेती करने और सरकारी प्रोत्साहन से किसानों तक पहुंचाने की योजना बनाकर सबसे पहले जैतून के इजरायली पौधों को नागौर सहित प्रदेश में दो जगह लगाकर प्रयोग किया गया. यहां सात वेरायटी की जैतून को लगाया गया जो आज सफल होकर बम्पर पैदावार दे रहा है. 

जैतून एक छोटे पेड़ के रूप में तैयार होकर पैदावर देता है. ऐसे में किसानों के लिए यह इसलिए भी ज्यादा फायदेमंद साबित है कि इसको लाइनों में लगाया जाता है. बीच में जो जगह रहती है उसमें किसान इंटरक्रॉप के जरिये दूसरी फसल उगाकर भी पैदावर ले सकते हैं. किसानों को अगर एक फसल खराब हो गई तो दूसरी से फायदा हो सकता है.

जैतून की फसल की पैदावार लेने वाले किसानों के लिए प्रदेश में रिफायनरी लगाई गई है. किसान के खेत से ही फसल की खरीद हो जाती है. किसानों को मार्केटिंग के लिए भटकना नही पड़ता. वहीं, प्रदेश में जैतून की पत्तियों से हर्बल चाय बनाने को लेकर कृषि वैज्ञानिक काम कर रहे हैं. जैतून की हर्बल चाय सफल रही तो किसानों के लिए जैतून और ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकेगा. क्योंकि उसके बाद अगर जैतून फ्रुटिंग नहीं करेगा तो उसकी पत्तियों से चाय उत्पादन भी किया जा सकेगा.

प्रदेश सरकार का ऑलिव कल्टीवेशन लिमिटेड किसानो की जैतून की फसल के लिए वरदान साबित हो सकेगा. रिफायनरी से तेल और अब चाय के जरिये किसान मालामाल हो सकेगा. 

ये भी पढ़ें: जल्द मजबूत होगा राजस्थान पर्यटन विभाग, सरकार ने बनाई यह नई नीति