Governor के सुझाव पर हरकत में सरकार, आदिवासी क्षेत्रों में बनेंगे स्मार्ट विलेज

आदिवासी बाहुल्य जिलों में आर्दश ग्राम की तर्ज पर स्मार्ट विलेज बनाए जाएंगे. राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) की ओर से स्मार्ट विलेज बनाने के निर्देए दिए जाने के बाद सरकार (Rajasthan Government) हरकत में आ गई है. 

Governor के सुझाव पर हरकत में सरकार, आदिवासी क्षेत्रों में बनेंगे स्मार्ट विलेज
फाइल फोटो

जयपुर: आदिवासी बाहुल्य जिलों में आर्दश ग्राम की तर्ज पर स्मार्ट विलेज बनाए जाएंगे. राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) की ओर से स्मार्ट विलेज बनाने के निर्देए दिए जाने के बाद सरकार (Rajasthan Government) हरकत में आ गई है. इसके लिए जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग (Tribal Regional Development Department) ने स्मार्ट विलेज (Smart Village) के लिए नाम भी मंगा लिए हैं. 

राज्यपाल कलराज मिश्र जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग की योजनाओं की मॉनिटरिंग करते रहते हैं. आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में विकास को नई गति देने के लिए उन्होंने इन क्षेत्रों में स्मॉर्ट विलेज बनाने के निर्देश विभाग को दिए हैं. राज्यपाल के निर्देश के बाद जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग हरकत में आ गया है. इसके लिए उन्होंने टीएडी जिलों से स्मार्ट विलेज के लिए नाम भी मांग लिए हैं। हालांकि कई जिलों से अभी नाम नहीं आए हैं. इसके लिए दोबारा कलक्टरों से गांव के नाम भेजने के निर्देश दिए हैं. शुरूआत में टीएडी की 41 पंचायत समितियों में स्मार्ट विलेज बनाए जाएंगे। पायलट प्रोजेक्ट के रूम में हर पंचायत समिति से एक गांव को विकसित किया जाएगा. इसके बाद अन्य गांवों में भी इसी तरह का विकास किया जाएगा.

आदिवासी क्षेत्रों में नेटवर्क की रहती है बड़ी समस्या
आदिवासी क्षेत्रों में नेटवर्क की बड़ी समस्या रहती है. ऐसे में राज्यपाल ने ऐसे गांव में नेटवर्क पर भी ध्यान देने की जरूरत बताई है, ताकि आम जनता को राहत मिले. अभी पंचायत से लेकर ऊपरी स्तर तक सारा काम नेटवर्क से जुड़ा हुआ है. ऐसे में नेटवर्क की आसानी से पहुंच हर व्यक्ति तक हो इसके लिए प्रयास करने की जरूरत बताई है.

स्मार्ट विलेज अन्य गांवों के लिए बनेंगे मॉडल
आर्दश ग्राम की तर्ज पर शुरूआत में इन गांवों में डेवलपमेंट पर ध्यान दिया जाएगा. जिसमें जल निकासी की व्यवस्था, सामुदायिक शौचालय का निर्माण, सार्वजनिक पार्क, खेल मैदान, ग्रामीण गौरव पथ, मुख्य मार्गों पर लाइट की व्यवस्था, सौलर लाइट, गांव में नियमित सफाई व्यवस्था, फलदार पौधे लगाने का काम और पुस्तकालय बनाने जैसे काम प्रमुखता से किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: Rajasthan Weather Update: राजस्थान को सर्दी-कोहरे से अभी नहीं मिलेगी राहत