close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर में नशीली दवाइयों के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार, पूछताछ जारी

आरोपी ने पूछताछ को दौरान बताया कि वह अरुण मेडिकल स्टोर से दवाइयां लेकर आता था और उसमे कुछ अन्य चीजें मिलाकर पाउडर तैयार करता है.

बाड़मेर में नशीली दवाइयों के साथ एक व्यक्ति गिरफ्तार, पूछताछ जारी
पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है.

बाड़मेर: चौहटन सरहदी गांवों में हेरोइन जैसे मादक पदार्थ तैयार कर बेचने की सूचना के चलते पुलिस एवं बीएसएफ की खुफिया एजेंसी द्वारा बुधवार को भंवार गांव में दबिश देकर नकली हेरोइन का एक पैकेट बरामद किया. साथ ही, पुलिस ने एक अधेड़ को गिरफ्तार भी किया और पूछताछ शुरू की है, उससे कई बड़े खुलासे होने की संभावना है. इस पैकेट में बंद पाउडर हेरोइन है या नहीं इसकी लेबोरेटरी जांच के बाद ही खुलासा होगा लेकिन प्राथमिक स्तर पर पूछताछ व जांच के बाद इसे हेरोइन जैसा नकली मादक पदार्थ माना जा रहा है.

चौहटन पुलिस उप अधीक्षक अजीतसिंह ने बताया कि मनोज कुमार डिप्टी बीएसएफ जी ब्रांच सेक्टर हेड क्वाटर बाड़मेर ने पुलिस को सूचना दी कि वैरसीराम (52) पुत्र महेन्द्रराम भील निवासी भंवार द्वारा नशीली दवाई मिक्स कर नशीला पदार्थ तैयार कर बेचा जा रहा है. इस पर डीवाई एसपी पुलिस अजीतसिंह, डिप्टी मनोजकुमार जी ब्रांच सेक्टर हेडक्वार्टर बाड़मेर एवं सेडवा थानाधिकारी की टीम ने वैरसीराम के घर पर दबिश देकर उसे हिरासत में लिया गया तथा घर की तलाशी ली गई. तलाशी के दौरान उन्हें एक ब्राउन व्हाइट रंग के पाउडर का पैकेट मिला जिस पर 999 व उर्दू में कुछ लिखा मार्का पाया गया. 

आरोपी के साथ कड़ाई से पूछताछ करने पर उसने बताया कि वह अरुण मेडिकल स्टोर से दवाइयां लेकर आता था और उसमे कुछ अन्य चीजें मिलाकर पाउडर तैयार करता है. कुछ व्यापारियों और ग्राहकों को हेरोइन बताकर मनमाफिक भाव में बेचता भी है. पुलिस उप अधीक्षक अजीतसिंह ने बताया कि आरोपी वैरसीराम को गिरफ्तार कर भारतीय दंड संहिता की धारा 336 एवं 274 में मामला दर्ज कर जांच शुरू किया गया है. साथ ही इसके इस कारोबार में कुछ और लोगों के लिप्त होने को लेकर पूछताछ की जा रही है.

वहीं, पुलिस के हत्थे चढ़े ये पैकेट हेरोइन से मिलते जुलते देखे गए, उनकी गंध भी वैसी ही आ रही थी लेकिन उसके असली या नकली होने को लेकर पुलिस दिनभर मशकक्त में जुटी रही, विशेष टीम भी बुलाई गई जिसने उसके असली हेरोइन नहीं होने बात सामने आई. पूछताछ में सामने आया कि ये लोग हेरोइन जैसा ही दिखने जैसा मादक पदार्थ बनाकर बेचने का धंधा चलाते हैं. नशीली दवाईयों के साथ कई पदार्थ मिलाकर उससे पाउडर तैयार कर पैकेट में बन्द कर अपने ग्राहकों को सप्लाई की जाती है. भंवार का युवक वैरसी यह नकली पदार्थ अपने घर पर तैयार कर सीलबंद करता है.

हेरोइन को असली बताने के लिए उसके द्वारा बाक़ायदा पैकेट पर कुछ उर्दू शब्दों के साथ 999 मार्का भी लगाया जाता है. यह मार्का कहां से बनाया गया इसको लेकर भी पूछताछ की जा रही है. असली हेरोइन होने का झांसा देकर ग्राहकों से एक लाख रुपयों तक की ऊंची कीमत वसूलने की कौशिश की जाती है. लेकिन माल की बिक्री नहीं होने पर महज दस हजार में ही बेचने को तैयार हो जाते हैं.