प्याज से आ रहे उपभोक्ताओं को आंसू, थोक में 50 रुपए और खुदरा में 80 रुपए प्याज

प्याज (Onion) कीमतों में तेजी का दौर है. कर्नाटक, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश सहित प्याज उत्पादक प्रदेशों में उपज इस बार खराब रही है.

प्याज से आ रहे उपभोक्ताओं को आंसू, थोक में 50 रुपए और खुदरा में 80 रुपए प्याज
प्रतीकात्मक तस्वीर

जयपुर: प्याज (Onion) कीमतों में तेजी का दौर है. कर्नाटक, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश सहित प्याज उत्पादक प्रदेशों में उपज इस बार खराब रही है. अधिकतर मंडियों में वेयरहाउस से प्याज आ रहा है. नासिक से ही देशभर में प्याज सप्लाई किया जा रहा है. नासिक में भी हालिया बारिश से फसल खेतों में खराब हुई है. 

ये भी पढ़ें: कृषि कानूनों पर बुलाया जाएगा विशेष सत्र, गहलोत बोले-सरकार लाएगी संशोधन बिल

राजस्थान में भी कोटा की आवक कम रहने और अलवर से प्याज की नई फसल मंडियों में आने में देरी से कीमतों में भारी उछाल है. कीमतों में अक्टूबर महिने में ही थोक कीमतों में 30 रुपए प्रति किलो और खुदरा में 50 रुपए प्रति किलो की तेजी आ चुकी है. प्याज के साथ आलू भी वेयरहाउस से निकलकर अपने दाम बढ़ा रहा है. त्यौहारी सीजन होने से दोनों की ही मांग तेज है. 

अनलॉक फेज होने से होटल और रेस्तरां से भी मांग निकलने लगी है. ऐसे में मांग और आपूर्ति के बड़े अंतर को पाटना मुश्किल हो रहा है. कारोबारियों के अनुसार मुहाना मंडी में 80 से 90 ट्रक प्रति दिन पहुंच रहे है, जबकि मांग 150 ट्रकों की है. अलवर और कोटा की प्याज मंडियों में आने के बाद कीमतों में कमी की संभावना है.

ये भी पढ़ें: राजस्थान रोडवेज घाटे की स्थिति से उबारने के लिए CM गहलोत ने दिया अहम आदेश, कहा...