राजस्थान में पाक विस्थापितों को मिली भारतीय नागरिकता, लगाए 'भारत माता की जय' के नारे

जयपुर कलेक्ट्रेट में भारतीय गणतंत्र की नागरिकता का प्रमाण पत्र मिलते ही पाकिस्तान से विस्थापित 7 लोगों के चेहरे खिल गए.

राजस्थान में पाक विस्थापितों को मिली भारतीय नागरिकता, लगाए 'भारत माता की जय' के नारे
जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने भारतीय गणतंत्र की नागरिकता के प्रमाणपत्र सौंपे.

जयपुर: गुरुवार को जिला कलेक्ट्रेट में फिर 7 पाक विस्थापितों का जीवन का सबसे बड़ा सपना पूरा हुआ, जिन्हें सालों बाद भारत का नागरिक होने का सौभाग्य हासिल हुआ है. इन्हें जिला कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने भारतीय गणतंत्र की नागरिकता के प्रमाणपत्र सौंपे. 

अधिकारिक रूप से भारत का नागरिक की नई पहचान मिलते ही कलेक्टर चैम्बर ‘भारतमाता की जय’ और ‘वन्दे मातरम्’ का स्वर गूंज उठा. नेहरा ने बताया पाक विस्थापितों को भारत की नागरिकता प्रदान किया जाना सुखद अनुभव है क्योंकि ये लोग पाकिस्तान से विस्थापित होने के बाद वर्षों से यहां अधूरी पहचान के साथ रह रहे थे. सरकारी नौकरियों, योजनाओं, विभिन्न प्रक्रमों में उनको समस्याएं आती थीं. अब नई पहचान से उन्हें ये समस्याएं नहीं रहेंगी.

यह भी पढ़ें- बाड़मेर: पाकिस्तान से आई महिलाएं नहीं लड़ पाएंगी राजस्थान में पंचायत चुनाव

भारत की नागरिकता सर्टिफिकेट मिलने पर लगे भारत माता के नारे
जयपुर कलेक्ट्रेट में भारतीय गणतंत्र की नागरिकता का प्रमाण पत्र मिलते ही पाकिस्तान से विस्थापित 7 लोगों के चेहरे खिल गए. भारत का नागरिक बनते ही लोगों की आंखें भर आईं, भारत माता की जय और वंदेमातरम के उद्‌घोष से माहौल गुंजायमान हो गया. लोगों ने आपस में मिठाइयां खिलाकर खुशियां बांटीं. इनमें से कई लोग 20 साल से भारत की नागरिकता का इंतजार कर रहे थे.

जयपुर कलेक्ट्रेट परिसर के सभागार में कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने इन पाक विस्थापित लोगों को भारतीय गणतंत्र की नागरिकता के प्रमाण पत्र प्रदान किए. वहां मौजूद कुछ लोगों ने बताया कि इस दिन का बीते कई सालों से इंतजार कर रहे थे. आखिर गुरुवार को अधिकारिक रूप से भारत का नागरिक बनते का सपना पूरा हुआ. जिससे उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं है.

वर्षों से इंतजार कर रहे पाक विस्थापितों का सपना पूरा
इस अवसर पर नेहरा ने खुशी जाहिर करते हुए भारतीय नागरिकता का प्रमाण पत्र प्राप्त व्यक्तियों को बधाई दी एवं शुभकामना देते हुये कहा कि आप एक जिम्मेदार भारतीय नागरिक बने और भारत के विकास में अपना सहयोग दें. नेहरा ने बताया कि इस प्रक्रिया के लिये ऑनलाइन आवेदन लिये जाते है तथा ऑनलाइन प्रमाण पत्र जारी किया जाता है. लम्बित आवेदनों पर भी तत्परता से कार्यवाही की जा रही है और जल्द ही बचे प्रमाण पत्रों को जारी किया जायेगा. 

अब खुद का ले सकेंगे आशियाना और सरकारी योजनाओं का मिलेगा लाभ
इस अवसर पर प्रमाण पत्र प्राप्त कर भारतीय नागरिक बन चुके सिकन्दर कुमार ने बताया कि वे पाकिस्तान के रोहिंग्या जिले के निवासी थे लेकिन परिवार और रिश्तेदार जयपुर में होने के कारण 20 साल पहले यहां आकर बस गये. वे स्वयं का रोजगार भी करने लगे किन्तु भारतीय नागरिक नहीं होने के कारण सरकारी योजनाओं का लाभ लेने में परेशानी होती थी लेकिन अब वे भारतीय नागरिक होने का प्रमाण पत्र मिलने से अब हम सरकारी योजनाओं का लाभ भी ले सकेंगे. उन्होंने भारतीय नागरिक होने पर उन्हें गर्व है. सिलाई का काम करने वाली उनकी बहन अनीता ने बताया कि वे अब खुद का घर भी ले सकेंगे. 

इनको मिली भारतीय नागरिकता की नई पहचान
भारतीय नागरिकता का प्रमाण पत्र प्राप्त करने वालों में कल्याण,रोशन कुमार, सुगना देवी, अनीता देवी, शबरीन, सिकन्दर कुमार और मोहनी भी भारतीय नागरिक बन गए हैं.