श्रीगंगानगर: लगातार जारी है पाकिस्तान से आई टिड्डियों का हमला, किसान परेशान

किसानों ने कहा कि टिड्डी दल से निपटने के लिए कृषि अधिकारियों द्वारा बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं लेकिन धरातल पर कोई भी अधिकारी नहीं पहुंच पा रहा. 

श्रीगंगानगर: लगातार जारी है पाकिस्तान से आई टिड्डियों का हमला, किसान परेशान
किसान टिड्डियों को अपने स्तर पर पीपे, थालियां और पटाखे बजाकर उड़ा रहे हैं.

कुलदीप गोयल, श्रीगंगानगर: पाकिस्तान (Pakistan) से लगातार भारत की सीमा में बड़ी संख्या में टिड्डी दल प्रवेश कर किसानों की फसलों को चौपट कर रहा है. राजस्थान का श्रीगंगानगर जिला टिड्डी दल से काफी प्रभावित है. 

इसके चलते जी मीडिया ने भारत-पाकिस्तान सीमा से कुछ किसानों से बात की और जानने का प्रयास किया कि उन्हें किन समस्याओं से दो-चार होना पड़ रहा है? इस पर किसानों ने कहा कि टिड्डी दल से निपटने के लिए कृषि अधिकारियों द्वारा बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं लेकिन धरातल पर कोई भी अधिकारी नहीं पहुंच पा रहा. 

किसान टिड्डियों को अपने स्तर पर पीपे, थालियां और पटाखे बजाकर उड़ा रहे हैं. उन्होंने कहा कि रही सही कसर ओलावृष्टि ने पूरी कर दी लेकिन किसानों के हाथ खाली हैं. उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र और राज्य सरकार द्वारा बजट घोषणा कर दी जाती है लेकिन इन घोषणाओं का लाभ उन्हें नहीं मिल पा रहा.

किसानों ने पाकिस्तान की तरह टिड्डी दल को लेकर भारत में भी आपदा घोषित करने की मांग की है. दरअसल, सीमा पार पाकिस्तान से आ रही टिड्डी को लेकर पश्चिमी राजस्थान के इलाको में कहर पिछले आठ से नौ महीने से जारी है. वहीं, 28 जनवरी को बाड़मेर के गुड़ामालानी के सगरानियों की बेरी में टिड्डियों ने किसान निम्बाराम के पूरे खेत चट कर दिया तो इतना भयंकर सदमा लगा कि उसकी मौत हो गई थी.

किसान को इस बात की चिंता थी, जिस फसल के लिए 3 तीन लाख का लोन लिया, उसे कैसे जमा करवाएगा? जैसे टिड्डी उसके खेत में पहुंची तो टिड्डी को भगाने का पूरा जतन करता नजर आया लेकिन सदमा लगने से बेहोश होकर गिर गया और मौके पर ही मौत हो गई.