चित्तौड़गढ़: चार चरणों में होंगे पंचायतीराज चुनाव, एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे प्रत्याशी

भाजपा की बागी प्रत्याशी रेखा व्यास के निर्दलीय मैदान में खड़े होने से बीजेपी की गणित बिगाड़ सकती है.

चित्तौड़गढ़: चार चरणों में होंगे पंचायतीराज चुनाव, एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे प्रत्याशी
प्रतीकात्मक तस्वीर.

दीपक व्यास, चित्तौड़गढ़: जिले में पंचायतीराज चुनाव चार चरणों में होने जा रहे है, जिसके चलते प्रत्याशी पंचायत समिति और जिला परिषद में जीत के लिये एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं.

प्रथम चरण में जिले में तीन जगहों पर चुनाव होंगे, जिसमें वार्ड नम्बर एक राशमी क्षेत्र में जहां एक ओर सांसद सी पी जोशी के नजदीकी माने जाने वाले भाजपा प्रत्याशी हर्षवर्धन सिंह चुनाव मैदान में हैं, तो वहीं कांग्रेस के बद्रीलाल जाट जिला परिषद सदस्य के लिये अपना भाग्य आजमा रहे हैं, जिसके चलते सांसद सी पी जोशी की प्रतिष्ठा दाव पर लगी हुई है. प्रथम चरण में 23 नवंबर को मतदान होगा, जिसके चलते दोनों ही दलों के प्रत्याशी मतदाताओं को रिझाने में लगे हुए हैं. इधर भाजपा की बागी प्रत्याशी रेखा व्यास के निर्दलीय मैदान में खड़े होने से बीजेपी की गणित बिगाड़ सकती है.

यह भी पढ़ें- ब्लैक पेपर के जरिये BJP ने साधा राजस्थान सरकार पर निशाना, शामिल किए ये 24 मुद्दे

क्षेत्र में मूल समस्या सड़क, पानी, बिजली के साथ ही सबसे बड़ी समस्या बनास नदी में बजरी माफियाओं द्वारा हाईकोई के रोक के बावजूद अवैध बजरी खनन माना जा रहा है, जहां माफिया बेखोफ होकर क्षेत्र में धड़ल्ले से बजरी का परिवहन करते है, जिसकी वजह से सड़के क्षतिग्रस्त हो चुकी है तो वहीं, नदी का पेटा गहरा होने से पानी की समस्या से ग्रामीणों में रोष व्याप्त है. वहीं, दूसरी ओर गांव में गंदगी व्याप्त होने के साथ ही सड़कों की दुर्दशा के कारण गंदा पानी जमा रहना भी एक चुनाव मुद्दा माना जा सकता है.

बहरहाल, क्षेत्र में बड़े पैमाने पर बजरी का अवैध दोहन इस बार चुनावी मुद्दा बन सकता है, लेकिन यह तो आने वाला परिणाम ही बताएगा कि उंट किस करवट बैठता है.