बीकानेर के जोहड़ सूखने के कगार पर, भयंकर गर्मी के बीच खड़ा हुआ पेयजल संकट

ग्रामीणों ने बताया कि जोहड़ में पानी सूखने के कगार पर है जिससे जो पानी थोड़ा बहुत बचा है वह सूरज के तापमान से बहुत ज्यादा गर्म हो जाता है, वह पानी पशुओं के पीने लायक नहीं रहता.

बीकानेर के जोहड़ सूखने के कगार पर, भयंकर गर्मी के बीच खड़ा हुआ पेयजल संकट
ग्रामीण महिलाओं को दूर दर्ज के जलदाय विभाग से पेयजल लाना पड़ रहा है .

अजय ओझा/सादुलशहर: भीषण गर्मी और लू के दौर में गांव बुधरवाली के ग्रामीण पिछले एक सप्ताह से पेयजल संकट से जूझ रहे हैं, यही नहीं पिछले 2 दिनों से गांव में पेयजल आपूर्ति भी नहीं हो पा रही है इससे ग्रामीणों को पेयजल के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है. इसके साथ ही गांव के जोहड़ में भी पानी सूखने के कगार पर है जिससे पशुओं के लिए पानी का संकट गहरा गया है.

अखिल भारतीय किसान सभा के तहसील अध्यक्ष कोर सिंह सिद्धू ने बताया कि गांव में पिछले 2 दिन से पेयजल आपूर्ति नहीं हुई है, जिसका कारण पीएचईडी में बनी पानी की डिग्गी में पानी का भंडारण नहीं होना है. ग्रामीणों ने कहा कि पेयजल आपूर्ति नहीं होने के कारण उन्हें टैंकरों से पानी ब्लैक में पानी भरवाना पड़ रहा है. जिससे उनके सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है.

ग्रामीणों ने बताया कि जोहड़ में पानी सूखने के कगार पर है जिससे जो पानी थोड़ा बहुत बचा है वह सूरज के तापमान से बहुत ज्यादा गर्म हो जाता है, वह पानी पशुओं के पीने लायक नहीं रहता. ग्रामीणों की मांग है कि जल्द से जल्द जोहड़ में पानी भरवाया जाए और पीएचईडी की डिग्गी में भी पानी का भंडारण किया जाए ताकि इंसानों और पशुओं को इस गर्मी के दौर में समस्या नहीं हो. ग्रामीण महिलाओं को दूर दर्ज के जलदाय विभाग से पेयजल लाना पड़ रहा है .

वहीं बांसवाडा जिलें में पानी की समस्या आम बात हो गई है. शहर की शास्त्री कालोनी में पिछले 15 दिनों से लोग पानी के लिए मशक्कत करते नजर आ रहे है. इस कालोनी में पिछले 15 दिनों से पानी नही आ रहा है. यहा पर लगी पानी की टंकी भी बंद हैं, वहीं जलदाय विभाग की लाइन से भी पानी नहीं आ रहा है. जिस कारण से रोजाना यहां पर महिलाओं का जमावड़ा लग जाता है, पुरी कालोनी में एक ही आसरा है. 

वहीं पानी की समस्या से परेशान लोगों ने कई बार जलदाय विभाग के पास गए पर वहां भी इनको कोई समाधान नहीं मिला. वही नगर परिषद भी यह लोग गए पर यहा भी कोई समाधान नहीं मिला. यहां के लोग पानी के लिए इस भीषण गर्मी में परेशान हो रहे हैं लेकिन प्रशासन को इसकी कोई चिंता नहीं है.