कड़ाके की सर्दी से कांपा श्रीगंगानगर, घरों में दुबकने को मजबूर हुए लोग

 श्रीगंगानगर और आसपास के इलाके का पारा लुढ़क कर 6 डिग्री तक जा पंहुचा है. वहीं,लोगों की रातें सर्दी के सितम में अलाव के सहारे कट रही हैं. 

कड़ाके की सर्दी से कांपा श्रीगंगानगर, घरों में दुबकने को मजबूर हुए लोग
तापमान अभी और भी ज्यादा गिर सकता है.

श्रीगंगानगर: जिले में सर्दी ने अपना कहर बरपा रखा है. हालात ये हो चले हैं की सर्दी के सितम से आम लोगों की दिनचर्या रुक सी गई है. श्रीगंगानगर और आसपास के इलाके का पारा लुढ़क कर 6 डिग्री तक जा पंहुचा है. वहीं, कड़ाके की सर्दी से लोगों की रोजी रोटी पर भी असर पड़ रहा है. बेघरों की रातें सर्दी के सितम में अलाव के सहारे कट रही हैं. वहीं दिनभर कोहरे के कारण आवागमन में भी लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है

सीमावर्ती क्षेत्र श्रीगंगानगर के लोगों का जन जीवन आज कल थमा सा हुआ है. हालात ये हैं की मजबूरी में ही लोग घरों से बाहर निकल रहे हैं. गली मौहल्लों और सड़कों पर लोग आग तापते नजर आ रहे हैं. दरअसल, इस वक्त पूरे उत्तर भारत में कड़ाके की सर्दी पड़ रही है. प्रदेश के कई इलाकों में तो पारा 0 डिग्री तक जा पंहुचा है. पेड़ों पर ओस की बूंदे जम चुकी हैं. जिससे लोगों का जीना मुहाल हो चुका है. ठंड का सबसे ज्यादा असर बुजुर्गों और बच्चों पर नजर आ रहा है.

वहीं, मौसम विभाग का कहना है की सर्दी के सितम से अभी राहत मिलती हुई नजर नहीं आ रही है. अभी पारे में और भी गिरावट के आसार हैं. मौसम विभाग का कहना है की पहाडों पर हो रही बर्फबारी का असर मैदानी इलाकों में नजर आ रहा है. जिससे तापमान अभी और भी ज्यादा गिर सकता है. सीमाव्रती इलाके  श्रीगंगानगर में भी हालात अभी सामान्य होने में वक्त लगेगा.

बता दें कि, प्रदेश में बीते एक सप्ताह में रात के तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. हालांकि बीते कुछ दिनों से धूप निकलने के चलते कई जिलों में रात के तापमान में हल्की बढ़ोतरी जरुर दर्ज की जा रही है. लेकिन अधिकतर जिलों में रात के तापमान में गिरावट दर्ज होने से कड़ाके की सर्दी रात को भी सता रही है. बीती रात अलवर में सबसे कम 3.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया.