किशोरों के लिए अलग से हो सकती है पुलिस, HC ने आदेश पर गहलोत सरकार ने शुरू की कवायद

कोर्ट के आदेश के बाद महिला बाल विकास ने गृह विभाग को इसकी क्रियान्वति करने के लिए लिखा है. वहीं, गृह विभाग से पुलिस महानिदेशक से इस सम्बंध में टिप्पणी और प्रस्ताव मांगे हैं. 

किशोरों के लिए अलग से हो सकती है पुलिस, HC ने आदेश पर गहलोत सरकार ने शुरू की कवायद
किशोरों के लिए अलग से हो सकती है पुलिस. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

विष्णु शर्मा/जयपुर:राजस्थान में बच्चों और महिलाओं के अलावा किशोरों के लिए भी अलग से पुलिस हो सकती है. एक जनहित याचिका में हाईकोर्ट (High Court) के आदेश के बाद सरकार में इसकी कवायद शुरू हुई है. कोर्ट के आदेश के बाद महिला बाल विकास ने गृह विभाग को इसकी क्रियान्वति करने के लिए लिखा है. वहीं, गृह विभाग से पुलिस महानिदेशक से इस सम्बंध में टिप्पणी और प्रस्ताव मांगे हैं. 

दरअसल, प्रदेश में महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा तथा कार्रवाई के लिए अलग से कानूनी प्रावधान के साथ प्रत्येक थाने में हेल्प डेस्क बनाई हुई है. इसके साथ ही गलत संगत में पड़कर अपराध की राह पर चलने वाले बच्चों को सुधारने के लिए विशेष पुलिस इकाई के गठन की प्रक्रिया शुरू हुई है.

जानकारी के अनुसार, जोधपुर हाईकोर्ट ने 5 फरवरी 2020 को स्व:प्रेरित जनहित याचिका की सुनवाई की. याचिका की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने 8 सितम्बर 2020 को प्रत्येक जिले में समर्पित रूप से विशेष किशोर पुलिस इकाई के गठन के निर्देश दिए. 

कोर्ट ने विशेष पुलिस इकाई के गठन के लिए छह हफ्ते में पालन रिपोर्ट मांगी है. कोर्ट ने विशेष पुलिस इकाई के लिए अलग कैडर भी गठित करने के निर्देश दिए हैं. कोर्ट के निर्देश के बाद सामाजिक न्याय अधिकारिता ने प्रमुख सचिव गृह को पत्र लिखकर विशेष पुलिस इकाई गठन का आग्रह किया है.

वहीं, बाल अधिकारिता विभाग ने गृह विभाग को नोटशीट भेजवाने में देरी की, जिससे कोर्ट में रिपोर्ट पेश नहीं की जा सकी. इधर, गृह विभाग ने डीजीपी को पत्र लिखकर प्रस्ताव भेजवाने के लिए कहा, लेकिन अभी तक प्रस्ताव नहीं मिले. जेजे एक्ट 2015 की धारा 107 में भी विशेष किशोर पुलिस इकाई का प्रावधान है.

जेजे एक्ट में प्रावधान होने के बावजूद विशेष पुलिस इकाई के गठन का कार्य नहीं किया गया. विशेष पुलिस इकाई के सदस्य किशोर-किशोरियों से थानों में पूछताछ नहीं करेंगे. किशोरों पर कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़े इसलिए सादे वर्दी में ही  पूछताछ की जाएगी.