close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में जेल से बाहर आने वाले अपराधियों पर भी नजर रखेगी पुलिस

जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट पुलिस ने जोधपुर सेंट्रल जेल से रिहा होने वाले या जमानत पर, पैरोल पर बाहर आने वाले हार्डकोर ओर आदतन अपराधियों पर निगरानी करने के लिए अनूठी पहल की है.

राजस्थान में जेल से बाहर आने वाले अपराधियों पर भी नजर रखेगी पुलिस
पुलिस महकमें ने इसके लिए 4 लोगों की एक विशेष टीम गठित की है.

भवानी भाटी/जोधपुर: जेल से रिहा होने वाले हार्डकोर अपराधियो ओर संगीन वारदातो में शामिल अपराधियो के जेल से बाहर आने पर भी उनकी हर गतिविधि पर अब पुलिस की नजर रहेगी. जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस ने इसके लिए एक विशेष टीम का गठन किया है. जहां यह टीम ना केवल अपराधियों पर निगरानी रखेगी, बल्कि इनसे मिलने वाले लोगों पर भी नजर रखेगी.

साथ ही पुलिस टीम को शक होने पर उनसे पूछताछ भी की जाएगी. हालांकि शुरुआती दौर में इसके लिए 4 लोगो की टीम बनाई गई है, जो यह निगरानी करेगी,जरूरत पड़ी तो ईलेक्ट्रॉनिक सेरवेलेंस की मदद लेगी. आमजन में विश्वास और अपराधियों में भय का शलोग वाली राजस्थान पुलिस बढ़ते अपराध और हाई टेक होते अपराध पर अंकुश लगाने के लिए लगातार नवाचार कर रही है.  

इसी कड़ी में जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट पुलिस ने जोधपुर सेंट्रल जेल से रिहा होने वाले या जमानत पर, पैरोल पर बाहर आने वाले हार्डकोर ओर आदतन अपराधियों पर निगरानी करने के लिए अनूठी पहल की, ताकि यह अपराधी जेल से बाहर आने के बाद किसी वारदात को अंजाम देने या देने की फिराक में है तो उन पर समय रहते कार्रवाई की जा सके. इसके लिए 4 लोगों की एक विशेष टीम गठित की है. जिसे जेल बीट नाम दिया गया. यह टीम जेल से छूटे अपराधियों, उनसे मिलने वाले लोगों पर 24 घंटे निगरानी करेगी. जैसे ही टीम को कुछ संदेह हुआ तो टीम की सूचना पर संबंधित थाने पुलिस उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ करेगी,ताकि अपराधियो में पुलिस का भय बना रहे.

यही नहीं जोधपुर जैसी सबसे सुरक्षित जेलों में शामिल जेल से गैंग चलाने और जेल में बैठकर अपराध करने की शिकायते भी लगातार मिलती रही है. पुलिस के सामने ऐसे कई मामले भी सामने आए हैं, ऐसे में जेल में बैठे अपराधियो द्वारा की जा रही वारदातो पर अंकुश लगाने के लिए भी जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट पुलिस ने एक कार्य योजना तैयार की है. ताकि जेल से होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाया जा सके. हालांकि प्रारंभिक रूप से अभी इस पर पुलिस टीम कार्य करने में जुटी है. पुलिस तकनीकी के आधार पर ऐसे अपराधियों पर निगरानी कर रही है.

बहरहाल जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट पुलिस अपराधियों और अपराधों पर अंकुश लगाने और आमजन में विश्वास व अपराधियों में भय के सलोगन के लिहाज से लगातार नवाचार कर रही है. एक बाहर फिर से हार्डकोर ओर आदतन अपराधियो के वारदात करने से पहले सलाखों के पीछे डालने की दिशा में यह अनूठी पहल शुरू की है, लेकिन पुलिस की यह टीम अपने मकसद में कितनी कामयाब हो पाती है यह तो आने वाला समय ही बताएगा. लेकिन जरूरत है तो इसके लिए टीम को कड़ी मेहनत करने की.