हनुमानगढ़ में प्रदूषण ने तोड़ा रिकॉर्ड, आमजन को हो रही परेशानी

दरअसल, वायु में प्रदूषण और धूल के कण न केवल फेफड़ों से संबंधित बीमारियों को जन्म दे रहे हैं, बल्कि सांस और स्किन संबन्धी रोगों को भी बढ़ा रहे हैं.

हनुमानगढ़ में प्रदूषण ने तोड़ा रिकॉर्ड, आमजन को हो रही परेशानी

हनुमानगढ़: हनुमानगढ़ जिले में बढ़ते प्रदूषण ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. धुएं की चादर से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. बढते प्रदूषढ़ के चलते सबसे ज्यादा परेशानी सांस के मराजों को रही है. जिले में सांस के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. जानाकरी के अनुसार जिले में बढ़ते प्रदूषण के चलते लोगों को आंखों में जलन, सांस लेने में परेशानी समेत कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

दरअसल, वायु में प्रदूषण और धूल के कण न केवल फेफड़ों से संबंधित बीमारियों को जन्म दे रहे हैं, बल्कि सांस और स्किन संबन्धी रोगों को भी बढ़ा रहे हैं. बढ़ते प्रदूषण से अस्थमा से पीड़ित लोग सबसे ज्यादा प्रभावित हैं. मरीजों की संख्या भी लगातार बढ़ रही है. जिला अस्पताल में इनका आंकड़ा काफी ज्यादा है. वहीं, निजी अस्पतालों में फेफड़ों, हृदय से संबंधित मरीजों की संख्या बढ़ रही है.
कैसे बढ़ रहा प्रदूषण ?

जानकारी के मुताबिक खेतों में पराली जलाने में बढ़ोत्तरी, वायु की गति में कमी और प्रदूषकों के फैलाव से हालात तेजी से बिगड़ रहे हैं. धुएं और धूल के कण वातावरण में सफेद चादर के रूप में जमा हो गए हैं. हालांकि जिला प्रशासन ने खेतों में पराली जलाने पर रोक तो लगाई है. लेकिन अभी भी किसानों के द्वारा पराली जलाने के मामले सामने आ रहे हैं.