CAA मामले में पूनिया का कांग्रेस पर हमला, बोले-अपने ही वादे से मुकर रही सरकार

बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने सीएए के मामले में कांग्रेस पर दोहरा रवैया अपनाने के आरोप लगाए हैं.   

CAA मामले में पूनिया का कांग्रेस पर हमला, बोले-अपने ही वादे से मुकर रही सरकार
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया

शशि मोहन, जयपुर: बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने CAA के मामले में कांग्रेस पर दोहरा रवैया अपनाने के आरोप लगाए हैं. पूनिया ने कहा कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले खुद अपने जन घोषणा पत्र में पाकिस्तानी विस्थापितों को राहत देने की बात कही थी, लेकिन सत्ता में आने के बाद कांग्रेस ही अपनी बात से मुकर रही है.

नागरिकता संशोधन कानून(Citizenship Amendment Act) पर बीजेपी और दूसरी पार्टियां आमने सामने हैं. केन्द्र के खिलाफ़ विपक्षी पार्टियां प्रदर्शन कर रही हैं तो देश के अलग-अलग हिस्सों में बीजेपी ने सीएए के समर्थन में प्रदर्शन किया. अब बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कांग्रेस के रवैये पर सवाल उठाये हैं. पूनिया ने अपने बयान में कांग्रेस के जनघोषणा पत्र को आधार बनाया है. 

पूनिया ने घोषणा पत्र का हवाला देते हुए कहा कि कांग्रेस ने अपने वायदों की लिस्ट जारी करते वक्त घोषणा पत्र के पेज नम्बर 37 पर पाकिस्तानी विस्थापितों का ज़िक्र किया था. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि इसमें कांग्रेस ने सत्ता में आने पर विस्थापितों के उत्थान के लिए काम करने और इनके सर्वांगीण विकास की बात की थी, लेकिन तब विस्थापितों के लिए निकाय तक बनाने की बात करने वाली कांग्रेस केन्द्र की तरफ़ से इस बारे में कानून आते ही पूरी तरह से पलट गई है. पूनिया ने आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा काम सिर्फ कांग्रेस पार्टी की सरकार ही कर सकती है.

सरकार को घेरते हुए पूनिया ने कहा कि सरकार के मुखिया जनघोषणा पत्र की 503 में से 119 मांगों को पूरी करने की बात तो कहते हैं, लेकिन विस्थापितों को राहत की बात पर कांग्रेस विरोध क्यों कर रही है? पूनिया ने कहा कि सरकार अगर वाकई विस्थापितों को राहत देना चाहती है तो फिर नागरिकता संशोधन कानून का विरोध क्यों कर रही है? पूनिया ने कहा कि सरकार में आने से पहले कांग्रेस ने अगर विस्थापितों की शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार का वादा किया था तो अब सत्ता में आने के बाद उन्हें पूरा भी करना चाहिए.

जनघोषणा पत्र को आधार बनाकर बीजेपी ने कांग्रेस को घेरने की मजबूत कोशिश तो की है, लेकिन जिस तरह देशभर में सीएए के खिलाफ़ कांग्रेस का विरोध प्रदर्शन चल रहा है उसे देखते हुए केवल राजस्थान में इस मामले पर कांग्रेस का ढीला पड़ना अभी तो मुश्किल ही दिखता है.