झुंझुनूं: पंचायतराज चुनावों को लेकर तैयारियां पूरी, 23 नवंबर को पहले चरण का चुनाव

प्रशासन के सामने बड़ी जिम्मेदारी कोरोना फ्री चुनाव करवाना है, जिसके लिए भी पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. 

झुंझुनूं: पंचायतराज चुनावों को लेकर तैयारियां पूरी, 23 नवंबर को पहले चरण का चुनाव
प्रतीकात्मक तस्वीर.

संदीप केडिया, झुंझुनूं: पंचायतराज चुनावों में पंचायत समिति और जिला परिषद सदस्यों के चुनावों का पहला चरण 23 नवंबर को होगा. इस दिन झुंझुनूं जिले की तीन पंचायत समितियों के 54 सदस्यों तथा जिला परिषद के आठ वार्डों के 24 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो जाएगा. 

इनमें कई बड़े चेहरे भी शामिल हैं, जिन पर निगाहें न केवल झुंझुनूं की, बल्कि पूरे प्रदेश की टिकी हुई हैं. इधर, प्रशासन के सामने बड़ी जिम्मेदारी कोरोना फ्री चुनाव करवाना है, जिसके लिए भी पुख्ता प्रबंध किए गए हैं. 

झुंझुनूं जिले में पहले चरण के 23 नवंबर को होने वाले चुनावों के लिए प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर ली हैं, जिसके लिए 22 नवंबर को सुबह प्रशिक्षण के बाद सभी पोलिंग पार्टियां झुंझुनूं से संबंधित बूथों के लिए रवाना होगी. जिला कलेक्टर यूडी खान ने बताया कि पहले चरण में झुंझुनूं, अलसीसर और मंडावा पंचायत समितियों के 54 वार्डों के लिए तथा जिला परिषद के आठ वार्डों के लिए 423 मतदान केंद्रों पर मतदान होगा. अलसीसर में 148 मतदान केंद्रों पर एक लाख 10 हजार 363, झुंझुनूं में 155 बूथों पर 1 लाख 9 हजार 912 तथा मंडावा के 120 बूथों पर 87 हजार 434 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

जिला कलेक्टर यूडी खान ने बताया कि चुनाव निष्पक्ष और शांतिपूर्ण हो. इसके साथ-साथ इस बार मतदान कोविड फ्री हो यानी कि मतदान में सोशल डिस्टेंस, मास्क और सेनिटाइजर का ध्यान रखते हुए मतदान हो ताकि कोरोना न फैले. यह सबसे बड़ी जिम्मेदारी है. इसलिए पुलिस और प्रशासन के अलावा स्काउट्स-गाइड्स, एनसीसी कैडेट्स, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा नर्सेज का सहयोग लिया जा रहा है. सभी केंद्रों पर ये कार्यकर्ता और कर्मचारी, न केवल कोरोना गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित करेंगे. बल्कि मतदाताओं को केंद्र तक लाने ले जाने में भी सहयोग करेंगे. उन्होंने बताया कि सभी मतदान केंद्रों पर पर्याप्त सेनिटाइजर और मास्क भी उपलब्ध करवाए गए हैं.

आपको बता दें कि पहले चरण में कई दिग्गज नेताओं की किस्मत ईवीएम में कैद हो जाएगी, जिसमें सबसे बड़ा चेहरा है मंडावा विधायक रीटा चौधरी की मां तथा पीसीसी के पूर्व चीफ स्व. रामनारायण चौधरी की पत्नी परमेश्वरीदेवी, जो जिला परिषद के वार्ड नंबर चार से कांग्रेस (Congress) प्रत्याशी है और जिला प्रमुख पद की प्रबल दावेदार है. 

इसके अलावा अलसीसर प्रधान गिरधारी खीचड़, बीजेपी नेता डॉ. राजेश बाबल की पत्नी पूजा बाबल, निवर्ततान उप जिला प्रमुख बनवारीलाल सैनी, कांग्रेस (Congress) के तेज तर्रार नेता खलील बुडाना, शिक्षाविद् उमेश कस्वां की पत्नी अंजू कस्वां, एनएमटी कॉलेज की पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष एवं युवाओं में सबसे चर्चित चेहरा नीटू फोगाट, युवा नेता पंकज धनखड़, बीजेपी जिला मंत्री सुनिल लांबा, विधायक बृजेंद्र ओला के करीबी और गिडानिया ब्लॉक कांग्रेस (Congress) अध्यक्ष मोहरसिंह सोलाना, कांग्रेस (Congress) के पूर्व जिलाध्यक्ष हफीज खान की पुत्रवधु शबनम बानो, जैसे बड़े नामों की किस्मत 23 नवंबर को ही ईवीएम में कैद हो जाएगी.