Indian Kisan Union के अध्यक्ष ने कहा, Tractor Rally पर तत्काल रोक लगाएं SC

 इंडियन किसान यूनियन (Indian Kisan Union) के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामकुमार वालिया (Ramkumar Walia) ने मांग की कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) किसान संगठनों की तथकथित ट्रैक्टर रैली पर तत्काल रोक लगाएं. 

Indian Kisan Union के अध्यक्ष ने कहा, Tractor Rally पर तत्काल रोक लगाएं SC
वालिया ने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया किसानों की दिल्ली में प्रस्तावित ट्रैक्टर पर तत्काल बैन लगाएं.

जयपुर: इंडियन किसान यूनियन (Indian Kisan Union) के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामकुमार वालिया (Ramkumar Walia) ने मांग की कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) किसान संगठनों की तथकथित ट्रैक्टर रैली पर तत्काल रोक लगाएं. साथ ही केंद्र सरकार से आग्रह है कि वो किसी भी दबाव में कृषि कानूनों को वापस नहीं लें. वहीं, किसान अपनी हठधर्मिता छोड़कर कानून के प्रभावों को देखने के लिए सरकार को कुछ समय दें. 

इंडियन किसान यूनियन का विस्तार देने के लिए जयपुर आए वालिया ने पत्रकार वार्ता में कहा कि केंद्र सरकार (Central Government) बिल को पूर्ण रूप से लागू करें, किसी के दबाव में वापस आकर नहीं लें. किसानों का हित करने वाला बिल है. वालिया ने सुप्रीम कोर्ट से आग्रह किया किसानों की दिल्ली में प्रस्तावित ट्रैक्टर पर तत्काल बैन लगाएं. यदि गणतंत्र दिवस पर रैली निकलती है तो ठकराव की स्थिति बनेगी. ऐसे में इस पर तुरंत रोक लगा दी जानी चाहिए. 

वालिया ने कहा कि आज हिंदुस्थान में धर्म संकट खड़ा हो गया है एक तरफ तो सुप्रीम कोर्ट की गरीमा को ठेस पहुचांने की कोशिश है. लोग सुप्रीम कोर्ट के आदेश को नहीं मान रहे हैं. वहीं, किसान सुप्रीम कोर्ट की बनाई कमेटी को मानने से इनकार कर रहे हैं. ऐसे में केंद्र सरकार तत्काल समन्वय समिति बनाए किसानों, आधिकारियों और कमेटी से बात करें. वालिया ने कहा कि आज हिंदुस्तान की जनता इस आंदोलन से तंग आ चुकी है. एक तरफ तो देश में कोरोना की मार चल रही है, इस समय में जब देश को मदद की जरूरत है. ऐसे में अपनी सरकार के खिलाफ आंदोलन कतई सही नहीं है. 

किसान सरकार पर भरोसा करेें
वालिया ने कहा कि यह सरकार आम जनमानस की सरकार है इस पर भरोसा करना चाहिए. यह आपका और जन मानस का भी भला करने वाली है. सरकार ने बातचीत के दरवाजे खोले हैं. आपको जिन जिन मुद्दों पर संदेह है तो हम खुले मन से बात रखने को तैयार हैं. जिन नेताओं की जमीन खिसक चुकी है उनकी बातों में नहीं आकर सरकार पर भरोसा करें. 

खेती फायदे का सौदा नहीं- वालिया
वालिया ने कहा कि आजादी के 65 साल बाद भी किसानों की दशा वो की वाे है. मैं खुद किसान का बेटा हूं. आज हमारी नई पीढ़ी खेती नहीं करना चाहती है. खेती फायदे का सौदा नहीं है. सरकार को एक साल का समय दें किसी के बहकावे में नहीं आए. मोदी की लोकप्रियता और भाजपा जनाधार बढ़ने के कारण ये लोग घबराकर किसानों को बरगलाने का काम कर रहे हैं. किसान सरकार की मंशा को समझें, सरकार किसान की दशा दिशा को सुधार करना चाहती है. आंदोलन को जारी रखने से पहले इन कानूनों को पढ़ लें.  

विश्व में सबसे ज्यादा पंसद किया, वो नुकसान नहीं करेगा-- 
वालिया ने कहा कि जिस आदमी को विश्व के सबसे ज्यादा लोगों ने पसंद किया. कोरोनाकाल के दौरान विश्व में पीएम मोदी को सबसे ज्यादा पसंद किया गया. ऐसे में वो किसानों का नुकसान करेंगे. किसानों को अपना आंदोलन समाप्त कर  कुछ समय नए कानून के लिए दें. भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष हरिराम रणवां ने कहा कि किसान तार्किक रूप से चर्चा करे तो सरकार सहमत है. किसानों को जिद छोड़कर राजनीति दलों के प्रभाव को छोड़कर वास्तविकता के साथ बिलों को समझना होगा. 

ये भी पढ़ें: Rajasthan में ठंड का 'थर्ड डिग्री टॉर्चर' शुरू, इन आधा दर्जन जिलों में अलर्ट जारी!