रानी मुखर्जी की 'मर्दानी 2' को लेकर गुस्से में कोटावासी, लोकसभा स्पीकर ने की निर्माताओं से बात

बिरला ने निर्माताओं से कहा कि फिल्म में सत्य घटना पर आधारित शब्द तथा कोटा का नाम हटाया जाना चाहिए. 

रानी मुखर्जी की 'मर्दानी 2' को लेकर गुस्से में कोटावासी, लोकसभा स्पीकर ने की निर्माताओं से बात
बिरला ने कहा कि फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद से भी कोटा शहरवासियों में नाराजगी है.

हिमांशू मित्तल, कोटा: रिलीज से पहले ही फिल्म मर्दानी 2 को लेकर कोटा के लोगों में काफी गुस्सा है. कोटा में बढ़े विरोध के बाद अब ख़ुद लोकसभा अध्यक्ष माननीय ओम बिरला ने मर्दानी 2 फिल्म के सिलसिले में निर्माताओं से बात की.
बातचीत के दौरान बिरला ने कहा कि फिल्म का ट्रेलर रिलीज होने के बाद से भी कोटा शहरवासियों में नाराजगी है. इस संबंध में कई संगठनों ने ज्ञापन भी दिए हैं. फिल्म में शैक्षणिक नगरी कोटा की छवि बिगाड़ने की कोशिश करने का आरोप लगाया गया है. 

बिरला ने निर्माताओं से कहा कि फिल्म में सत्य घटना पर आधारित शब्द तथा कोटा का नाम हटाया जाना चाहिए. इस पर निर्माताओं ने कहा कि कोटा के लोगों की भावनाओं की कद्र करते हुए फिल्म के पहले दिखाए जाने वाला वाक्य सत्य घटनाओं पर आधारित हटा लिया जाएगा और इसके स्थान पर काल्पनिक घटनाओं पर आधारित वाक्य लिखा जाएगा.

जहां तक कोटा की बात है तो कुछ तकनीकी समस्याएं आ सकती हैं. इस पर बिरला ने कहा कि फिल्म से कोटा का नाम भी हटाया जाना चाहिए. इसको लेकर भी बिरला जल्द संबंधित मंत्रालय में बातचीत करने वाले हैं.

कोटा को बदनाम करने की साजिश
कोटा के व्यापार महासंघ ने फिल्म का विरोध करते हुए कहा कि ये फिल्म पूरी तरह झूठी और मनगढ़ंत कहानी पर आधारित है. इसमें कोटा का सीधे तौर पर नाम लेकर कोटा की छवि खराब करने की साजिश की गई है. उन्होंने कहा कि इस फिल्म से कोटा का नाम हटवाया जाए अन्यथा बड़ा आंदोलन किया जाएगा.

कोटा में फिल्माए गए हैं दृश्य
इस फिल्म की शूटिंग कोटा में ही हुई है. लीड कास्ट रानी मुखर्जी समेत वायआरएफ की यूनिट ने कई दिनों तक कोटा में रहकर फिल्म के कई सीन शूट किए गए हैं. यही वजह थी कि फिल्म को लेकर खास तौर पर कोटावासियों में उत्सुकता थी लेकिन ट्रेलर के आपत्तिजनक कंटेट ने ही लोगों को निराश कर दिया. फिल्म दिसंबर के दूसरे हफ्ते में रिलीज होगी.