PCC में फिर से शुरू होगा जनसुनवाई का दौर, मंत्री डोटासरा लगाएंगे जनता दरबार

प्रदेश में सरकार बनने के बाद भी मंत्रियों-विधायकों की ओर से कार्यकर्ताओं के काम नहीं होने की लगातार आ रही शिकायतों कब बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने पीसीसी में जनसुनवाई फिर से शुरू करने का निर्णय लिया है. 

PCC में फिर से शुरू होगा जनसुनवाई का दौर, मंत्री डोटासरा लगाएंगे जनता दरबार
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा.

जयपुर: एक लंबे वक्त के बाद पीसीसी (PCC) में फिर से जनसुनवाई का दौर शुरू होने जा रहा है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने पीसीसी में जनसुनवाई करने का निर्णय लिया है. 

इस महीने के आखिरी सप्ताह में गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) फिर से पीसीसी में जनता दरबार लगाने जा रहे हैं. लंबे समय से पार्टी कार्यकर्ताओं की समस्याओं की शिकायतों के चलते डोटासरा का यह निर्णय बेहद अहम माना जा रहा है लेकिन कोरोना काल में गाइड लाइन की पालना एक बड़ी चुनौती होगी.

यह भी पढ़ें- इन बिंदुओं पर सहमति के बाद खत्म हुआ स्कूल संचालकों का धरना, डोटासरा का भी जताया आभार

 

मुख्य बिंदु

  • पीसीसी में फिर से शुरू होगा जनसुनवाई का दौर.
  • प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा लगाएंगे जनता दरबार.
  • इस महीने 3 दिन होगी पीसीसी में जनसुनवाई.
  • 23, 24 और 25 नवंबर को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में होगी सुनवाई.
  • प्रदेश अध्यक्ष सुनेंगे पार्टी कार्यकर्ताओं की समस्याएं.

प्रदेश में सरकार बनने के बाद भी मंत्रियों-विधायकों की ओर से कार्यकर्ताओं के काम नहीं होने की लगातार आ रही शिकायतों कब बीच प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) ने पीसीसी में जनसुनवाई फिर से शुरू करने का निर्णय लिया है. गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) कांग्रेस मुख्यालय में लगातार तीन कार्यकर्ताओं की समस्याएं सुनेंगे. जनसुनवाई कार्यक्रम का आगाज 23 नवंबर से होगा. 
गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) 23 नवंबर को दोपहर तीन बजे पीसीसी में कार्यकर्ताओं से मिलेंगे. इसके बाद 24 नवंबर को सुबह 11 बजे से और 25 नवंबर को सुबह 11 बजे पार्टी कार्यकर्ताओं को जनसुनवाई का समय दिया गया है गोविंद सिंह डोटासरा अधिकांश समस्याओं का समाधान मौके पर ही करवाने की कोशिश करेंगे.

दरअसल, पिछले लंबे समय से मंत्री-विधायकों की ओर से कार्यकर्ताओं की समस्याएं नहीं सुनने और उनकी उपेक्षा किए जाने जाने की शिकायतें लगातार प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पहुंची रही थीं. प्रदेश प्रभारी अजय माकन के समक्ष भी कार्यकर्ताओं ने काम नहीं होने का मामला उठाया था, जिस पर माकन ने नाराजगी जताते हुए कार्यकर्ताओं को प्राथमिकता देने को कहा था. इससे पहले भी पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के समय में भी पीसीसी में जनसुनवाई कार्यक्रम शुरू किया गया था लेकिन कोरोना काल और कांग्रेस के भीतर मचे घमासान के चलते जनसुनवाई बंद करनी पड़ी. 

निश्चित गोविंद सिंह डोटासरा की यह पहल कार्यकर्ताओं के लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण है.लेकिन कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच उन्हें पीसीसी में होने वाली भीड़ को न केवल रोकना होगा पर कि सोशल डिस्टेंसिंग और गाइडलाइन की पालना करवाना भी बहुत बड़ी चुनौती होगी.