अलवर: अज्ञात शव का अंतिम संस्कार करवाकर फंस गई पुलिस, परिजन कर रहे हंगामा

अज्ञात शव का भिवाड़ी पुलिस द्वारा हिंदू रीति-रिवाज से किया गया अंतिम संस्कार विवादों में आ गया है. 

अलवर: अज्ञात शव का अंतिम संस्कार करवाकर फंस गई पुलिस, परिजन कर रहे हंगामा
परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें सही तरीके से ये भी नही बताया कि उसकी मौत कैसे हुई?

अलवर: भिवाड़ी के फूलबाग थाना पुलिस इलाके में 10 नवंबर को गंदे नाले में मिले अज्ञात शव का भिवाड़ी पुलिस द्वारा हिंदू रीति-रिवाज से किया गया अंतिम संस्कार विवादों में आ गया है. मामले में अज्ञात शव के सिरसाद खान का होने और अपने आपको उसका परिजन होने का दावा करने कुछ लोग थाने पंहुच गए. 

उन्होंने पुलिस पर परिजनों से सही तरीके से संपर्क नहीं करने और शव को उनके धर्म के रीति-रिवाज के खिलाफ जलाकर अंतिम संस्कार करने का आरोप लगाया. पुलिस का कहना है कि लगातार शव को पहचान करने की कोशिश की गई लेकिन जब किसी ने शिनाख्त नहीं की तो नियमानुसार शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया.

परिजनों ने लगाया आरोप
परिजनों का आरोप था कि 10 नवंबर की घटना की जानकारी लगने के बाद 11 नवंबर को परिजन अस्पताल पंहुच गए थे लेकिन जब दोबारा 12 नवंबर को अस्पताल पंहुचे, तब तक पुलिस ने मृतक सिरसाद खान निवासी उटोंन हरियाणा का अंतिम संस्कार कर दिया. परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उन्हें सही तरीके से ये भी नही बताया कि उसकी मौत कैसे हुई? अब परिजन कुछ लोगों को लेकर थाने में पहुंचे और मृतक की हत्या का अंदेशा करते हुए हत्या का मामला दर्ज करवाने की बात कह रहे हैं.

क्या कहना है पुलिस अधिकारी का
वहीं फूलबाग थानाधिकारी रविंद्र प्रताप ने बताया कि 10 नवंबर को पुलिस को सूचना लगी कि एक व्यक्ति का शव गंदे नाले में पड़ा हुआ है. मौके पर जाकर देखा तो शव एक दो दिन पुराना लग रहा था. शव की नाले से निकलवाकर उसकी फोटोग्राफी करवाई गई और परिजनों की तलाश की गई. 

11 नवंबर को कुछ लोग अस्पताल पहुंचे थे लेकिन उन्होंने उस समय शव को पहचाने से इनकार कर दिया था चूंकि शव से काफी बदबू आ रही थी. उसके चलते पुलिस ने अपने स्तर पर शव का अंतिम संस्कार करवा दिया. हालांकि पुलिस अभी भी मृतक के परिजनों को परिजन नहीं मानते हुए मृतक का डीएनए करवाने की तैयारी में लगी हुई है.

Edited by : Sumit Singh, News Desk