close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में पंजाब और मध्यप्रदेश की बारिश से दूर होगी पानी की समस्या

पंजाब और मध्यप्रदेश के चार बड़े बांध की स्थिति पिछले साल के मुकाबले काफी अच्छी है. राजस्थान में पंजाब से भांखडा, पोंग, रणजीत सागर बांध की जिम्मेदारी है.

राजस्थान में पंजाब और मध्यप्रदेश की बारिश से दूर होगी पानी की समस्या
जिन दूसरे राज्यों के बांधों में राजस्थान की हिस्सेदारी है, उनमें पानी की आवक बढ़ती जा रही है.

जयपुर: राजस्थान में भले ही 95 फीसदी बांध सूख चुके है. लेकिन प्रदेश के दूसरे राज्यों के उन बांधों की स्थिति ठीक है, जिन बांधों में राजस्थान की हिस्सेदारी है. राजस्थान में पंजाब और मध्यप्रदेश के चार बड़े बांधों से पानी पहुंचता है, जहां अच्छी बारिश से बांध भरने लगे है. यानि दूसरे राज्यों के साथ साथ राजस्थान के लिए ये अच्छी खबर है.

मरूधरा में 12 दिन पहले बांसवाडा और डूंगरपुर के रास्ते मानसून ने झूम के दस्तक तो ऐसा लगा मानों राजस्थान के बांधों की स्थिति जल्द ही ठीक होने लगेगी. एक दो दिन के बाद राजस्थान में मानसून पूरी तरह से सुस्त हो गया है. जिसके बाद में ना तो अच्छी बारिश हुई और ना ही फुहारे. ऐसे में मानसून ठीक तरह से सक्रिय नहीं होने के कारण मरूधरा का कंठ पानी की कमी के कारण लगातार सूखता जा रहा है.

अब हालात ये हो चले है कि प्रदेश के 830 बांधों में से 761 बांध पूरी तरह से सूख चुके है. जिसके चलते राजस्थान के जनता केवल ट्यूबवेल के भरोसे है और लगातार ट्यूबवेल खोदकर जनता की प्यास बुझाई जा रही है. लेकिन अच्छी खबर ये है कि जिन दूसरे राज्यों के बांधों में राजस्थान की हिस्सेदारी है, उनमें लगातार पानी की आवक बढ़ती जा रही है.

पंजाब और मध्यप्रदेश के चार बड़े बांध की स्थिति पिछले साल के मुकाबले काफी अच्छी है. राजस्थान में पंजाब से भांखडा, पोंग, रणजीत सागर बांध की जिम्मेदारी है. जिनकी वर्तमान स्थिति में लगातार सुधार होता जा रहा है. यानि अब दूसरे राज्यों के बांधो से आस बढ़ने लगी है. वैसे भी मौसम विभाग के अनुसार राजस्थान में एक सप्ताह तक बारिश की उम्मीद नही है, इसलिए दूसरे राज्यो के बांधो से उम्मीद और अधिक बढ़ गई है.