close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: गुर्जर आरक्षण से सरकारी नौकरी में 12 लाख अभ्यर्थियों को मिली बड़ी राहत

गहलोत सरकार ने सभी प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जरों के लिए 5 फीसदी आरक्षण लागू कर दिया है. जिसके बाद सभी अटकी भर्तियों का रास्ता अब साफ हो गया है.

राजस्थान: गुर्जर आरक्षण से सरकारी नौकरी में 12 लाख अभ्यर्थियों को मिली बड़ी राहत
भर्तियों में पहले गुर्जर अभ्यर्थियों को सिर्फ 1 फीसदी आरक्षण मिल रहा था.

जयपुर: राजस्थान में गुर्जरों को सरकारी नौकरियों में 5 फीसदी आरक्षण का लाभ मिल गया है. आरक्षण मिलने के बाद प्रदेश में 50 हजार नौकरियों की राह भी आसान हो गई है. बता दें कि आरक्षण नहीं मिलने से सभी प्रकियाधीन भर्तियां अटकी हुई थी. वहीं गुर्जरों को आरक्षण मिलने के बाद अब हजारों अभ्यर्थियों के भविष्य का रास्ता खुल तो गया है लेकिन राह आसान नहीं हुई. 

आरक्षण की आग में झुलस रहे राजस्थान में गुर्जरों को सरकारी नौकरी में आरक्षण मिलने के बाद 12 लाख अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है. आरक्षण का पेंच फंसा होने से 50 हजार से ज्यादा नौकरियों पर तलवार लटकी थी, लेकिन गहलोत सरकार ने सभी प्रक्रियाधीन भर्तियों में गुर्जरों के लिए 5 फीसदी आरक्षण लागू कर दिया है. जिसके बाद सभी अटकी भर्तियों का रास्ता अब साफ हो गया है. गुर्जरों को भर्तियों में 5 फीसदी आरक्षण मिलने के बाद में दूसरी जातियों के अभ्यर्थियों को कोई नुकसान नहीं होगा. साथ ही जिन भर्तियों परीक्षा हो चुकी है या परिणाम जारी हो चुका है, उनमें 4 फीसदी अतिरिक्त सीटे क्रिएट की जाएगी. इन भर्तियों में पहले गुर्जर अभ्यर्थियों को सिर्फ 1 फीसदी आरक्षण मिल रहा था.

जबकि जिस भर्तियों में आवेदन किए जा चुके है, लेकिन परीक्षा नहीं हुई तो उनमें फिर से आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. हालांकि सरकार ये राहत जरूर दी है कि जिन अभ्यर्थियों ने आवेदन भर दिया है, उन्हे फिर से आवेदन करने की जरूरत नहीं होगी. नए पात्र अभ्यर्थी प्रक्रियाधीन भर्तियों में आवदेन कर सकते है. ऐसे अभ्यर्थियों की रास्ता तो खुल गया है, लेकिन राह आसान नहीं हुई है. उन अभ्यर्थियों को अब परीक्षा के परिणाम के लिए और इतंजार करना पडेगा. इसके अलावा भर्तियों में आवेदन की प्रक्रिया भी फिर से शुरू होगी.

20 प्रक्रियाधीन भर्तियों का रास्ता तो बिल्कुल साफ दिखाई दे रहा है, लेकिन इन रास्तों की राह आसान दिखाई नहीं दे रही. वहीं गहलोत सरकार के इस कदम से लाखों बेरोजगारों के भविष्य का रास्ता का संकट अब खत्म हो गया है. सालों से इन भर्तियों पर तलवार लटकी हुई थी.