राजस्थान: रामगढ़ विधानसभा में त्रिकोणीय हुआ चुनावी मुकाबला, 20 प्रत्याशी मैदान में

रामगढ़ विधानसभा सीट पर 28 जनवरी को होने वाले चुनाव के लिये कांग्रेस, भाजपा, बसपा सहित 20 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है

राजस्थान: रामगढ़ विधानसभा में त्रिकोणीय हुआ चुनावी मुकाबला, 20 प्रत्याशी मैदान में
बसपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री नटवर सिंह के पुत्र जगत सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है

जयपुर: राजस्थान के अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में सोमवार को होने वाले चुनाव में सत्ताधारी कांग्रेस, विपक्षी भाजपा और बसपा प्रत्याशी के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होने की संभावना है. उल्लेखनीय है कि सात दिसम्बर को राजस्थान विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पूर्व रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के बसपा प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह के निधन के कारण इस सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया था. 

रामगढ़ विधानसभा सीट पर 28 जनवरी को होने वाले चुनाव के लिये कांग्रेस, भाजपा, बसपा सहित 20 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है. बसपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री नटवर सिंह के पुत्र जगत सिंह को चुनाव मैदान में उतारा है, जबकि सत्ताधारी कांग्रेस ने अलवर की पूर्व जिला प्रमुख साफिया जुबेर खान को और भाजपा ने पूर्व प्रधान सुखवंत सिंह को टिकट दिया है.

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मीडिया को बताया कि हमें रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से सकारात्मक फीडबैक मिल रहा है और इस सीट पर हमारी जीत तय है. सात दिसम्बर को हुए चुनाव में राजस्थान की जनता ने कांग्रेस को बहुमत दिया है और रामगढ़ सीट पर भी पार्टी की जीत होगी. अपनी जीत के प्रति आश्वस्त कांग्रेस की प्रत्याशी 51 वर्षीय साफिया जुबेर खान ने कहा कि राज्य में कांग्रेस की सरकार के बनने के बाद क्षेत्र के लोगों को विकास की उम्मीद है इसलिये पार्टी के प्रति सकारात्मक माहौल बना हुआ है.

2010 से 2015 के दौरान अलवर जिला प्रमुख रही साफिया ने कहा 'मैं विकास के नाम पर वोट मांग रही हूं. राज्य में कांग्रेस की सरकार के गठन के बाद लोगों को उम्मीद है कि यदि कांग्रेस का प्रत्याशी चुना गया तो क्षेत्र का विकास हो सकेगा इसलिये मैं अपनी जीत के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हूं'. उन्होंने कहा कि रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र के लोगों की प्रमुख मांगों में क्षेत्र में एक सरकारी कालेज, सुव्यवस्थित सड़कों सहित समुचित ढांचागत विकास शामिल है.

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष मदन लाल सैनी ने रामगढ़ से भाजपा प्रत्याशी के चुनाव जीतने का दावा करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी की प्रदर्शन से लोग संतुष्ट नहीं है, इसलिये रामगढ़ सीट पर भाजपा प्रत्याशी की जीत होगी. सैनी ने कहा कि कांग्रेस किसानों और युवाओं के साथ किये गये विभिन्न वादों को लेकर सत्ता में आयी है. कांग्रेस ने किसानों को दस दिन में कर्जा माफ करने का वादा किया था लेकिन सरकार ने अभी तक किसानों का कर्जा माफी नहीं किया है.

भाजपा प्रत्याशी जगत सिंह इससे पूर्व 2003-08 में अलवर के लक्ष्मणगढ़ सीट से कांग्रेस के विधायक रह चुके है. बसपा के प्रदेशाध्यक्ष सीताराम मेघवाल ने बताया कि जातिगत समीकरण बसपा के पक्ष में हैं इसलिये इस सीट पर उनकी पार्टी चुनाव जीतेगी. रामगढ़ के लोगो को रिझाने के लिये कांग्रेस, भाजपा और बसपा ने रैलियां, डोर टू डोर चुनावी प्रचार किया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष ने शुक्रवार को एक बड़ी रैली को संबोधित किया था जबकि बसपा ने शनिवार को एक रोड शो किया था. 

रामगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 2.35 लाख मतदाता हैं जिनमें से 1.10 लाख महिला मतदाता है. सोमवार को होने वाले चुनाव के लिये 278 मतदान केंद्र बनाये गये हैं. चुनाव परिणाम 31 जनवरी को घोषित किये जायेंगे. बता दें कि राज्य में सात दिसम्बर को हुए 199 विधानसभा सीटों के चुनाव में 99 सीट पर कांग्रेस, एक सीट पर कांग्रेस की गठबंधन सहयोगी आरएलडी ने जीत दर्ज की थी. भाजपा ने 73 सीटों पर बसपा ने छह, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने तीन, माकपा और बीटीपी ने दो-दो सीटों पर जीत दर्ज की थी। 13 सीटें निर्दलीयों को मिलीं.

(इनपुट-भाषा)