close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: फसली ऋण योजना में 4% किसानों को ही मिला कर्ज, कई आवेदकों को अब भी इंतजार

आकंडों पर नजर डालें तो आवेदन किए गए किसानों में से अब तक केवल 4.51 फीसदी किसानों को ही कर्ज मिला है. ऐसे में इस योजना पर सवाल उठना तो लाजमी है. 

राजस्थान: फसली ऋण योजना में 4% किसानों को ही मिला कर्ज, कई आवेदकों को अब भी इंतजार
प्रदेश में अब तक 9 लाख 30 हजार किसानों ने कर्ज के लिए आवेदन किया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

जयपुर: मानसून की अच्छी बारिश जरूर प्रदेशवासियों के लिए राहत की खबर लेकर आई है लेकिन इसके बावजूद भी किसान अभी तक हताश हैं. ब्याजमुक्त सहकारी फसली ऋण योजना की कछुवा चाल से लाखों किसानों को कर्ज नहीं मिला है. जिस कारण किसान मानसून आने के बावजूद भी बीज और खाद की व्यवस्था नहीं कर पा रहे.

सावन की पहली बौछारों से जरूर हर किसी के चेहरे पर मुस्कान आई है लेकिन यही सावन का महीना किसानों के लिए बिल्कुल सूखा चला जा रहा है. अब तक खेतों में ना तो खाद बिछी और ना ही बीज डले हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि सहकारी फसली ऋण योजना के जरिए अब तक 1.68 प्रतिशत किसानों को ही लॉन मिला है.

अब तक पूरे प्रदेश में सिर्फ 9 लाख 30 हजार किसानों ने ही आवेदन किया है. जबकि 20 दिन पहले शुरू हुई इस प्रक्रिया में अब तक केवल 42 हजार किसानों को ही लॉन मिल पाया है. बाकी 24 लाख 58 हजार से ज्यादा किसान अब तक सरकारी ब्याजमुक्त लॉन का इतंजार कर रहे हैं. ऐसे में कहीं इस बार किसानों के लिए सावन सूखा ना रह जाए. अब तक प्रदेश में 115 करोड़ का लॉन बांटा जा चुका है.

आकंडों पर नजर डालें तो आवेदन किए गए किसानों में से अब तक केवल 4.51 फीसदी किसानों को ही कर्ज मिला है. ऐसे में इस योजना पर सवाल उठना तो लाजमी है. 

इस कड़ी में सबसे अधिक आवेदन बाड़मेर, नागौर, जयपुर और सवाईमाधोपुर जिले में किसानों द्वारा किए गए हैं. बाड़मेर में जहां 92,000 किसानों ने आवेदन किया है वहीं नागौर में 84,000 किसानों ने, जयपुर में 76,000 किसानों ने और सवाईमाधोपुर में 60,000 हजार किसानों ने आवेदन किया है. वहीं किसानों द्वारा डूंगरपुर, सिरोही, पाली और जैसलमेर में सबसे कम आवेदन किया गया है.