close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जेल की सुरक्षा को लेकर प्रशासन सख्त, लगाए जाएंगे बैगेज स्केनर

जेल महकमे ने बीकानेर सहित 7 सेंट्रल जेल, हाई सिक्योरिटी जेल आदि 10 जेलों में बैगेज स्केनर लगाने की मंजूरी मांगी है.

राजस्थान: जेल की सुरक्षा को लेकर प्रशासन सख्त, लगाए जाएंगे बैगेज स्केनर
जेल महकमे का बैगेज स्केनर प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन है.

विष्णु शर्मा/जयपुर: पपीते, लड्डू, दूध आदि खाद्य सामग्री के साथ ही कई अन्य तरीकों से जेलों में हथियार, मोबाइल सिम या अन्य मादक पदार्थ अंदर ले जाना अब आसान नहीं होगा. इसके लिए राज्य का जेल महकमा जयपुर सहित दस जेलों में बैगेज स्केनर लगाने जा रहा है. जेल प्रशासन ने जैमर के रख रखाव की राशि का उपयोग बैगेज स्केनर खरीदने के लिए करने की मंजूरी मांगी है. फिलहाल मामला राज्य सरकार के पास विचाराधीन है, जिसकी जल्द ही मंजूरी मिलने की संभावना है.

गौरतलब है कि राज्य के कुख्यात गैगस्टर आनंदपाल से जुड़ा बीकानेर जेल में गैंगवार के फायरिंग में एक कैदी की हत्या हो गई थी, वहीं दो कैदी पीट पीटकर मार दिए गए थे. फायरिंग के लिए हथियार पपीते में रखकर अंदर पहुंचाया गया था. इसके बाद घटना आई गई हो गई, लेकिन जेलों में मादक पदार्थ व अन्य अवैध सामग्री पहुंचने से परेशान जेल प्रशासन बैगेज स्कैनर लगाने की तैयारी कर रहा है.

जेल महकमे ने बीकानेर सहित 7 सेंट्रल जेल, हाई सिक्योरिटी जेल आदि 10 जेलों में बैगेज स्केनर लगाने की मंजूरी मांगी है. जेल प्रशासन ने जैमर्स के रखरखाव के लिए सालाना राशि को बैगेज स्केनर खरीद के लिए उपयोग करने का प्रस्ताव दिया है. फिलहाल जेल महकमे का बैगेज स्केनर प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन है. 

जेलों में कैंटीन व राशन का सामान आता है, वहीं मुलाकात के दौरान परिजन कैदियों को मिठाई, फल व अन्य खाद्य सामग्री देते हैं. जेल अधिकारियों का कहना है कि इस खाद्य सामग्री के अंदर मोबाइल सिम, गांजा-चरस व अन्य मादक पदार्थ व अवैध पदार्थ छिपाकर ले आते हैं. बड़ी संख्या में दूध की थैलियां आती है, कोई थैली में सिम या अन्य सामग्री ले आता है. वहीं मोबाइल सिम छोटी होती है कि आसानी से पपीते या लड्डू में छिपाकर ले आते हैं.

जयपुर व जोधपुर में बैगेज स्कैनर जांच में इस तरह के मामले पकड़े गए, जिससे यह चौंकाने वाला खुलासा सामने आया. इस तरह के मामले पकड़ में आने के बाद ही जेल प्रशासन जयपुर व जोधपुर की तरह दस जेलों में भी बैगेज स्कैनर लगाने की मांग कर रहा है. बैगेज स्केनर लगने के बाद जेलों में जाने वाली वस्तुएं उससे गुजारी जाएंगी तो स्कैन में साफ साफ दिखाई दे जाएंगी.