राजस्थान: छात्रों को बेहतर तकनीकि शिक्षा देने के लिए स्किल यूनिवर्सिटी में करार

दोनों विश्वविद्यालय एक-दूसरे के संस्थान में कौशल प्रशिक्षण के लिए छात्रों का द्विपक्षीय आदान-प्रदान करेंगे

राजस्थान: छात्रों को बेहतर तकनीकि शिक्षा देने के लिए स्किल यूनिवर्सिटी में करार
इसका उद्देश्य बीएसडीयू और आरआईएसयू के बीच स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम की सुविधा प्रदान करना है

जयपुर: विश्वविद्यालयों के संसाधनों के अधिक प्रभावी उपयोग को बढ़ावा देने और छात्रों को बेहतर अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी (बीएसडीयू) ने शनिवार को राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए. एक आधिकारिक बयान में इस बात की जानकार दी गई. बयान के मुताबिक, राजस्थान आईएलडी स्किल यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. ललित के. पंवार और भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. (ब्रिगेडियर) सुरजीत सिंह पाब्ला ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करते हुए कहा कि इस समझौते के बाद छात्र उन संभावित अवसरों को लेकर सबसे ताजातरीन जानकारी से लाभान्वित होंगे, जो विश्वविद्यालय एक-दूसरे के साथ साझा करेंगे.

बयान के मुताबिक, दोनों विश्वविद्यालय एक-दूसरे के संस्थान में कौशल प्रशिक्षण के लिए छात्रों का द्विपक्षीय आदान-प्रदान करेंगे. इसके अलावा, एमओयू प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण और दोनों विश्वविद्यालयों में विभिन्न कार्यक्रमों के लिए पाठ्यक्रम तैयार करने और अपडेट करने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी.

राजस्थान के कौशल विकास, रोजगार और उद्यमिता राज्य मंत्री अशोक चांदना ने कहा, 'आजकल हर उद्योग में इतनी प्रतिस्पर्धा है कि छात्रों को स्कूली जीवन के दौरान ही निर्णय लेना और इसके मुताबिक तैयारी करनी पड़ती है. बढ़ती प्रतिस्पर्धा के साथ शिक्षा में कौशल का एकीकरण नए भारत को आकार देने में महत्तवपूर्ण भूमिका निभाएगा'. 

उन्होंने कहा, 'बीएसडीयू राजस्थान के कौशल परिदृश्य को बदलने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है'. भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. सुरजीत सिंह पाब्ला ने कहा, 'एमओयू का उद्देश्य बीएसडीयू और आरआईएसयू के बीच स्टूडेंट एक्सचेंज प्रोग्राम की सुविधा प्रदान करना और दोनों विश्वविद्यालयों से प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण को बढ़ावा देना है'. 

उन्होंने कहा, 'हम छात्रों के बीच नवाचार को बढ़ावा देने और वैज्ञानिक स्वभाव को विकसित करने की दिशा में हमारे प्रयासों के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार से आईआईसी प्रमाणन प्राप्त करके बहुत खुश हैं. हमारा मानना है कि यहां से हमें अभी और आगे जाना है'. 

(इनपुट-आईएएनएस)