close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर में टीड्डी दल को रोकने के लिए फील्ड में उतरे कृषि विभाग के अधिकारी

टीड्डी दल को रोकने के लिए राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने कृषि विभाग की पूरी फौज को बाड़मेर जिले में फील्ड में उतार दिया है. 

बाड़मेर में टीड्डी दल को रोकने के लिए फील्ड में उतरे कृषि विभाग के अधिकारी
भारत पाक सीमा से जुड़े 28 जिलों में टीड्डी ने जबरदस्त तरीके से आतंक मचाया है.

भूपेशआचार्या/बाड़मेर: पाकिस्तान से आई आफत टीड्डी दल को रोकने के लिए राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने कृषि विभाग की पूरी फौज को बाड़मेर जिले में फील्ड में उतार दिया है. अब तक भारत पाक सीमा से जुड़े 28 जिलों में टीड्डी ने जबरदस्त तरीके से आतंक मचा रखा है. वहीं बाड़मेर प्रशासन का यह दावा है कि अभी हालात कंट्रोल में है. 

पश्चिमी राजस्थान में टिड्डी से पूरी तरह से निपटने के लिए वाक्य पसीने छूट रहे हैं. वहीं किसानों और ग्रामीणों के लिए टीड्डी के बाद अब फाके के पनपने की चिंता भी बढ़ गई है. उस पार से मौसम में आई नरमी के कारण फाके के टिड्डी में बदलने से ज्यादा देर नहीं लगेगी. ऐसे में करोड़ों संख्या में टीडी के हमले की आशंका के चलते गहलोत सरकार ने राजस्थान के कई जिले की कृषि विभाग के अधिकारियों को बाड़मेर में बॉर्डर के गांवों में उतार दिया है, जो कि इन सब हालातों पर नजर बनाने के साथ ही टिड्डी पर नहीं उस फाके पर भी काम कर रहे हैं. 

विभाग यह दावा कर रहा है कि टीड्डी नियंत्रण में है. बाड़मेर जिले के 28 गांवों में टिड्डी ने दस्तक दी थी, जिनको चिन्हित कर नियंत्रण किया जा रहा है. सरहदी में पिछले 2 दिनों से बड़ी संख्या में जमीन से फाका निकल रहा है. इसको लेकर ग्रामीणों ने उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया. टिड्डी नियंत्रण दल की टीम ने यहां कीटनाशक दवाई का छिड़काव किया. जहां सुचना मिल रही है, वहां विभाग की ओर से नियंत्रण का कार्य किया जा रहा है.

विभाग का दावा है कि केमिकल छिड़काव बाद लंबे समय तक टीड्डी वहां ना तो पनप सकती है और ना ही वहां पहुंच सकती है. 1994 के बाद इस बार फिर से टीड्डी ने राजस्थान के किसानों की चिंता बढ़ा दी है. वहीं सरकार का दावा है कि सब कुछ नियंत्रण में है जबकि ग्रामीणों और बॉर्डर के इलाकों में टीड्डी पनपने का खतरा बरकरार नजर आ रहा है.