close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: फिर से ऐसा सुंदर दिखेगा आमेर मावठा, गहलोत सरकार करेगी कुछ ऐसा

आमेर की राजा रजवाडों की भूमि न केवल बहादुरी और पराक्रम का परिचय था,बल्कि आमेर महल और मावठा झील का भी हर कोई कायल है.

राजस्थान: फिर से ऐसा सुंदर दिखेगा आमेर मावठा, गहलोत सरकार करेगी कुछ ऐसा
अब मावठे में पहले ही तरह फिर से बीसलपुर बांध का पानी आएगा

जयपुर: राजस्थान के जयपुर के आमेर महल की शान पर चार चांद लगाने वाले मावठा सरोवर की चांदनी अब फिर से लौट जाएगी. कभी मावठे के पानी में आमेर दुर्ग की साफ तस्वीर दिखाई देती थी, लेकिन अब फिर से आमेर का मावठा पानी से मुस्कुरा उठेगा. जी मीडिया की खबर के बाद गहलोत सरकार ने यह निर्णय लिया है फिर से आमेर मावठे को बीसलपुर बांध के पानी से भरा जाएगा ताकि इसकी सुंदरता फिर से दमक सके और ड्रेनेज सिस्टम उपर उठ सके.

आमेर की राजा रजवाडों की भूमि न केवल बहादुरी और पराक्रम का परिचय था,बल्कि आमेर महल और मावठा झील का भी हर कोई कायल है. रजवाडों के जमाने में भी आमेर महल से लेकर मावठा झील तक पानी के संचय के पारम्परिक स्त्रोत हुआ करते थे. अब उसी मावठे में तस्वीर बिल्कुल बदल चुकी है. जिस सरोवर से पूरे आमेर के पारम्परिक जल स्त्रोत पानी से लबालब रहते थे, अब उन्ही जल स्त्रौतो का हाल बुरा है क्योंकि आमेर का ऐतिहासिक मावठा सरोवर सूख चुका है. जी मीडिया आमेर मावठे की खबर को प्रमुखता से दिखाई तो गहलोत सरकार फिर से आमेर मावठे को जिंदा करने जा रही है. 

अब मावठे में पहले ही तरह फिर से बीसलपुर बांध का पानी आएगा,ताकि आसपास के इलाके में पानी का जल स्तर बढ़ सके और जल स्त्रोतों में भरपूर पानी के साथ साथ महल की सुंदरता भी बरकरार रह सके. इससे पहले जब गहलोत सरकार थी तब भी मावठे में बीसलपुर बांध का पानी सप्लाई किया गया था. बीलसपुर बांध में पानी की अच्छी आवक के बाद पीएचईडी मंत्री बीडी कल्ला ने प्रदेशवासियों से अनुरोध किया है कि पानी का ज्यादा से ज्यादा संचय करे,ताकि हमारा कल सुरक्षित हो सके.

2011 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरकार की पहल पर ब्रह्मपुरी पम्पिंग स्टेशन से पाईप लाईन डालकर मावठे को भरा था, लेकिन इसके बाद 2015 में आमेर शहर में पानी की गम्भीर समस्या को देखते हुए उसी पाईप लाईन से बद्रीनाथ और नवलखा पम्प हाउस को जोड़कर आमेर जनता की प्यास बुझाना शुरू कर दिया. अब बीसलपुर बांध में अच्छी बारिश के बाद पानी की अच्छी आवक होने से फिर से जलदाय विभाग मावठे में पानी डालने की योजना बना रहा है. जलदाय विभाग के अफसर पहले पुरानी सीमेन्ट पाईप लाईन की टैस्टिंग करेंगे फिर अगर लाइन सफल रही  तो इसका मिलान नई पाईप लाइन से कर आमेर को 1.5 से 2.0 एमएलडी पानी उपलब्ध कराया जा सकेगा.

यह कार्य एक महीने में पूरा किया जाएगा. टेस्टिंग में यदि पुरानी पाईप लाइन सफल नहीं होती है तो 300 एमएम की नई डीआई पाईप लाइन डालकर नवलखा पम्प हाउस को मानबाग पम्पिंग स्टेशन से बीसलपुर का पानी दिया जाएगा. मानबाग से आमेर को बीसलपुर का पानी मिलने के बाद 1.5 से 2 एमएलडी पानी मावठें के लिये छोडा जाएगा और 3 महीने में मावठे को पूरा भरा जाएगा. जिसके बाद आमेर की सुंदरता फिर से लौट आएगी और पर्यटकों की भी अच्छी आवक हो सकेगी.