close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 10 महीने से नहीं मिल रहा बढ़ा हुआ मानदेय

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का उनकी मेहनत और आर्थिक परिस्थतियों को देखते हुए केंद्र सरकार ने अक्टूबर से 1500 रूपए तक का मानदेय बढाया था.

राजस्थान: आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को 10 महीने से नहीं मिल रहा बढ़ा हुआ मानदेय
राजस्थान की 1 लाख से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने हक के लिए तरस रही है.

जयपुर: वैसे तो आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की शिकायत रहती है कि उनसे जितना काम करवाया जाता है, उतना मानदेय नहीं दिया जाता. लेकिन सबसे अजीब बात ये भी है कि जितना आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय निर्धारित है, उसके लिए लाखों कार्यकर्ता तरस रही है.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता आंगनबाडी केंद्रों के साथ साथ चिकित्सा विभाग का भी काम संभालती है. उनकी मेहनत और आर्थिक परिस्थतियों को देखते हुए केंद्र सरकार ने अक्टूबर से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं 1500 रूपए तक का मानदेय बढाया, लेकिन राजस्थान की 1 लाख से ज्यादा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने हक के लिए तरस रही है.10 महीने से केंद्र सरकार ने आंगनबाडी कार्यकर्ताओं की राशि रिजील ही नहीं है. जिसमें कार्यकर्ताओं का 60 फीसदी केंद्र सरकार और 40 फीसदी मानदेय राज्य सरकार वहन करती है.

इस मामले पर मंत्री ममता भूपेश का कहना है कि केंद्र सरकार से राशि रिलीज नहीं हो पाई है,इसके लिए हमने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है. जब केंद्र सरकार हमे पैसा रिलीज करेगी, तब आंगनबाडी कार्यकर्ताओं को पूरा मानदेय मिल पाएगा. प्रदेश में 62 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों पर 56 हजार आंगनाबडी कार्यकर्ता, मिनी कार्यकर्ता और 56 हजार हैल्पर कार्यरत है. केंद्र सरकार ने आंगनबाडी कार्यकर्ताओं का 1500 रू, मिनी कार्यकर्ताओं का 1250 और हैल्पर का 750 रूपए बढाया था. इस हिसाब से आंगनबाडी कार्यकर्ताओं 10 महीने का 84 करोड़ रूपए अटका है, जिसमें से 60 फीसदी के हिसाब से 50 करोड 40 लाख रूपए केंद्र सरकार से आना बाकी है.

ऐसे ही मिनी कार्यकर्ताओं की बात करे तो 10 महीने का 75 लाख रूपए बकाया है, जिसमें से केंद्र सरकार का 45 लाख रूपए अटका है. ऐसे में हैल्पर्स का बकाया निकाले तो 4 करोड 20 लाख रूपए बनते है. इस हिसाब से 2 करोड 52 लाख रूपए केंद्र से अटका हुआ है. यानि तीनों कार्यकर्ताओं का जोडे तो 51 करोड 10 लाख 20 हजार रूपए केंद्र सरकार से रिजील होना बाकी है. ऐसे में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की उम्मीदे अब टूटने लगी है.ऐसे में क्या 10 महीने का एरियर समय से मिल पाएगा या नहीं ये वाकई बडा सवाल है.