close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: सरकारी स्कूलों में जितने नामांकन होंगे, उतने ही लगाए जाएंगे नए पौधे

शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा, 'प्रवेशोत्सव के तहत विद्यालयों में जितने नामांकन होंगे, उतने ही नये पौधे भी लगाए जाएंगे'. 

राजस्थान: सरकारी स्कूलों में जितने नामांकन होंगे, उतने ही लगाए जाएंगे नए पौधे
राजस्थान में राजकीय विद्यालयों के स्तर में तेजी से वृद्धि हुई है.

जयपुर: राजस्थान के सरकारी स्कूलों में प्रवेशोत्सव के तहत जितने छात्रों का नामांकन होगा, उतने ही नये पौधे भी लगाए जाएंगे. शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने सोमवार को यहां एक कार्यशाला में यह जानकारी दी. उन्होंने कहा, 'प्रवेशोत्सव के तहत विद्यालयों में जितने नामांकन होंगे, उतने ही नये पौधे भी लगाए जाएंगे'. 

इसके साथ ही मंत्री ने राजकीय विद्यालयों में शत-प्रतिशत नामांकन के लिए सभी को मिलकर प्रयास करने, स्कूल छोड़ चुके बच्चों को विद्यालयों से जोड़ने और पौधारोपण के लिए सभी स्तरों पर प्रभावी प्रयास किए जाने पर जोर दिया.

उन्होंने कहा, 'राज्य सरकार का प्रयास है कि प्रदेश के सभी बालक-बालिकाओं को बेहतर से बेहतर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिले. इसके लिए उन्होंने शिक्षा अधिकारियों से प्रतिबद्ध होकर कार्य करने का आह्वान किया'. 

उन्होंने कहा, 'राजस्थान में राजकीय विद्यालयों के स्तर में तेजी से वृद्धि हुई है. शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने के प्रयासों का ही परिणाम है कि आज प्रदेश के सभी जिलों में औसत 76 प्रतिशत से अधिक शिक्षकों के पद भरे जा चुके हैं'. 

इस दौरान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति संदीप मेहता ने कहा कि छात्रों के स्कूल छोड़ने के कारणों को तलाशने और इस दिशा में और कार्य किये जाने की जरूरत है. उन्होंने कहा, 'हाल में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की शिक्षा पर रिपोर्ट प्रकाशित हुई है, जिसके अनुसार 18 लाख बच्चे बीच में पढ़ाई छोड़ देते हैं. बालश्रम शोषण इसका बड़ा कारण है'. उन्होंने ऐसे बच्चों को चिह्नित कर उनके लिए शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने पर जोर दिया.