राजस्थान: काले धन को लेकर अशोक गहलोत ने किया बीजेपी पर तंज, कहा कुछ ऐसा...

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज चुनावी चंदे को लेकर बीजेपी समेत सभी राजनीतिक दलों को बड़ी नसीहत दी.

राजस्थान: काले धन को लेकर अशोक गहलोत ने किया बीजेपी पर तंज, कहा कुछ ऐसा...
सीएम ने देश में अर्थव्यवस्था और आर्थिक संकट को लेकर भी गहरी चिंता जाहिर की.

जयपुर: इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया के जयपुर चेप्टर और प्रोफेशनल्स डवलपमेंट कमेटी की ओर दो दिवसीय सीए कांफ्रेंस प्रकर्ष का मंगलवार को समापन हुआ. समापन समारोह में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे. साथ ही, कांग्रेस नेता राजीव अरोड़ा भी कार्यक्रम में मौजूद रहे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चंदे की राशि से चुनाव लड़ने वाले नेताओं पर कड़ा प्रहार करते हुए इस पैसे को ब्लैक मनी बताया. साथ ही, देश में अर्थव्यवस्था और आर्थिक संकट को लेकर भी गहरी चिंता जाहिर की.

इंस्टिट्यूट ऑफ चार्टेड अकाउंटेट की राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत मोदी सरकार पर हमलावर के रूप में नजर आए. सीएम अशोक गहलोत ने यहां चुनावी चंदे में ब्लैक मनी का भूरपूर इस्तेमाल होना बताया. उन्होंने कहा देश में करप्शन का एक सिस्टम बन गया है. जिसमें सभी राजनीतिक दल शामिल है. बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि  जो ब्लैक मनी को वापस लाने के वादे करते है वो ही इलेक्ट्रॉल बॉंड के जरिए चुनावी चंदा जुटा रहे हैं. मुख्यमंत्री ने चार्टेड अकाउंटेड्स से कहा कि वे भी इसमें कहीं जिम्मेदार है,लेकिन वे प्रोफेशन के कारण मजबूर है. देश बचाने के लिए आगे आना होगा.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज चुनावी चंदे को लेकर बीजेपी समेत सभी राजनीतिक दलों को बड़ी नसीहत दी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सारा पैसा करप्शन से आता है. उसके बाद करप्शन खत्म करने की बात बेमानी सी लगती हैं. करप्श्न खत्म करने का दावा लेकर लोग ब्लैक मनी से चुनाव लड़ते हैं. चुनावी चंदे के लिए नाम सिलेक्ट किए जाते हैं. अब चंदे लेने की स्टाइल बदल गई है. इलेक्शन बॉन्ड के मामले को उठाते हुए उन्होंने ये भी कहा कि चुनावी चंदा ब्लैक मनी है. दो नंबर का चंदा आता है. राजनीति में यह सिस्टम बन चुका है जिसमें सभी दल शामिल है. चंदे के लिए बांड जारी किए जा रहे है जिसमें कितना और किसका पैसा होता है ये नहीं पता. विदेशों से काला धन लाने की बात कही जाती है और ब्लैक मनी से चुनाव लड़ा जाता है. चंदे के लिए लोगों पर दबाव डाला जाता है. 

सीएम गहलोत ने चार्टेड अकाउंटेट्स की इस कॉन्फ्रेंस में देश की अर्थव्यवस्था पर चिंता जताते हुए कहा कि देश के हुक्मरानों को देश की आर्थिक स्थिति सुधारने पर जोर देना चाहिए. केन्द्र पर मनमानी का आरोप लगाते हुए गहलोत ने कहा कि राजस्थान का 11000 करोड़ रुपए का फंड कम कर दिया गया. राजस्थान ही नहीं अन्य राज्यों के भी हालात भी खराब बने हुए हैं. देश के कई राज्यों में आर्थिक संकट गहराता जा रहा है लेकिन केंद्र सरकार का इस की ओर कोई ध्यान नहीं है चार राज्यों में तो हालात बहुत ही ज्यादा विकेट होते जा रहे हैं. वहीं, 9 राज्यों के हालात भी कुछ खास नहीं लेकिन गहलोत ने कहा कि वे राज्य के साथ अन्याय नहीं होने देंगे. सीएम ने यहां हिंदू राष्ट्र के ख्वाब, सीएए को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सीएए सही तरीके से देशहित में लाया जाता तो लोग इसका स्वागत करते. सरकार को लोगों की भावनाओं का भी सम्मान करना चाहिए. वहीं, गहलोत के निशाने पर अन्ना हजारे और अरविंद केजरीवाल भी रहे. उन्होंने कहा कि लोकपाल को लेकर अनशन करने वाले नजर नहीं आते.

कांग्रेस नेता एवं फैडरेशन ऑफ राजस्थान एक्सपोर्टस के अध्यक्ष राजीव अरोड़ा ने कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तारीफ करते हुए कहा कि सबसे अच्छी गवनेंस देने वाले सीएम बताया. उन्होंने कहा कि सीएम गहलोत ने अपने घोषणा पत्र में सबसे ज्यादा वादे पूरे किए. उद्योगों के लिए प्रभावी सिंगल विंडो की शुरुआत हो या फिर एक्सपोर्ट्स काउंसिल हो या फिर एमएमएई की दिशा में बेहतरीन कार्य किए गए.

सीए क्षेत्र में निरंतर राजस्थान के अव्वल रहने पर मुख्यमंत्री ने खुशी जताई. साथ ही, कहा कि चार्टर्ड अकाउंटेंट इंस्टीट्यूट की प्रतिष्ठा खास है. इस क्षेत्र में राजस्थान ने अपना नंबर एक स्थान बनाया हुआ है. न्होंने उम्मीद जताई कि देश की इकॉनोमी और मौजूदा माहौल को सुधारने में सीए अपनी भूमिका बेहतरीन तरीके से निभा सकेंगे. दो दिवसीय कॉन्फ्रेंस प्रकर्ष में 2 हजार से ज्यादा सीए छात्रों ने भाग लिया. इसके विभिन्न् सत्रों में  एक्सपर्टस ने जीएसटी, आयकर, कंपनी कानून, लेखा, आंतरिक अंकेक्षण के बारे में चर्चा की. सीएम ने अकाउंटेट्स ने राज्य में नवाचारों और बेहतर कार्यो के लिए सुझाव भी मांगे.